उत्तराखंड में हिमस्खलन स्थल से पांच और शव बरामद : एनआईएम

avalanche
ANI
नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (एनआईएम) के पर्वतारोहियों के एक दल के उत्तरकाशी में हिमस्खलन में फंसने के दो दिन बाद बृहस्पतिवार को पांच और शव बरामद किए गए। संस्थान की तरफ से यह जानकारी दी गई। माना जा रहा है कि 22 पर्वतारोही अब भी लापता हैं।

देहरादून। नेहरू पर्वतारोहण संस्थान (एनआईएम) के पर्वतारोहियों के एक दल के उत्तरकाशी में हिमस्खलन में फंसने के दो दिन बाद बृहस्पतिवार को पांच और शव बरामद किए गए। संस्थान की तरफ से यह जानकारी दी गई। माना जा रहा है कि 22 पर्वतारोही अब भी लापता हैं। पर्वतारोही चढ़ाई के बाद लौटते समय 17 हजार फुट की ऊंचाई पर द्रौपदी का डांडा-द्वितीय चोटी पर मंगलवार को हिमस्खलन की चपेट में आ गये। एनआईएम के मुताबिक, पांच और शव मिलने के साथ ही अब तक बरामद किए जा चुके शवों की संख्या नौ हो गई है। चार शव हिमस्खलन वाले दिन ही बरामद कर लिए गए थे।

इसे भी पढ़ें: दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज कागिसो रबाडा ने कहा, IPL में खेलने से जानकारी साझा करने में मदद मिलती है

बरामद शवों में से सात प्रशिक्षुओं के और दो प्रशिक्षकों (इंस्ट्रक्टर) के हैं। उत्तराखंड पुलिस ने बुधवार को अपने फेसबुक पेज पर कहा था कि 10 शव बरामद कर लिए गए थे। इससे पहले दिन में राज्य आपात अभियान केंद्र (एसईओसी) ने कहा कि एनआईएम के 61 सदस्यीय उन्नत प्रशिक्षण पाठ्यक्रम के दल (प्रशिक्षु और प्रशिक्षक समेत) में से चार शव बरामद किये गये हैं, जबकि 30 लोग सुरक्षित हैं, लेकिन 27 लोग अब भी लापता हैं। उस समय तक पांच और शवों के बरामद होने के बारे में जानकारी नहीं मिली थी।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली सरकार ने धूल रोधी अभियान शुरू किया, आकस्मिक जांच के लिए 500 से ज्यादा टीमों का गठन

वहीं लापता पर्वतारोहियों को बचाने के अभियान में जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग स्थित हाई एल्टीट्यूड वारफेयर स्कूल का 14 सदस्यीय दल भी शामिल हो गया है। एसईओसी ने कहा कि इस दल को बहुत ऊंचाई पर बचाव अभियान चलाने में विशेषज्ञता हासिल है और यह दल राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) और एनआईएम के पर्वतारोहितयों के साथ मिलकर लापता पर्वतारोहियों की तलाश के काम में मदद करेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़