संपर्क कार्यक्रम के तहत 36 में से पांच केंद्रीय मंत्री करेंगे कश्मीर का दौरा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   16:58
संपर्क कार्यक्रम के तहत 36 में से पांच केंद्रीय मंत्री करेंगे कश्मीर का दौरा

जी किशन रेड्डी बुधवार को गांदेरबल जिले में दो दिवसीय संवाद कार्यक्रम आरंभ करेंगे जबकि प्रसाद बृहस्पतिवार से दो दिन के लिए बारामूला जिले में रहेंगे। नाइक बृहस्पतिवार और पोखरियाल शुक्रवार को श्रीनगर जाएंगे। अधिकारियों ने बताया कि आगामी चार दिन में कश्मीर में केवल आठ बैठकें होंगी जबकि जम्मू क्षेत्र में ऐसी 50 से अधिक बैठकें और कार्यक्रम होंगे।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर केंद्रशासित प्रदेश में केंद्र के संपर्क कार्यक्रम के तहत आगामी चार दिनों में 36 में से केवल पांच केंद्रीय मंत्री कश्मीर का दौरा करेंगे।  अधिकारियों ने बताया कि आगामी चार दिनों में दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल, अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक और गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी घाटी का दौरा करेंगे। नकवी मंगलवार को संपर्क कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे और श्रीनगर के बाहर दारा क्षेत्र में एक हाई स्कूल की नींव रखेंगे। वह शहर में हरवन इलाके के सरबंद में जल संरक्षण परियोजना की आधारशिला रखेंगे।

इसे भी पढ़ें: श्रीनगर और जम्मू हवाई अड्डे की सुरक्षा की जिम्मेदारी अब CISF संभालेगा

रेड्डी बुधवार को गांदेरबल जिले में दो दिवसीय संवाद कार्यक्रम आरंभ करेंगे जबकि प्रसाद बृहस्पतिवार से दो दिन के लिए बारामूला जिले में रहेंगे। नाइक बृहस्पतिवार और पोखरियाल शुक्रवार को श्रीनगर जाएंगे। अधिकारियों ने बताया कि आगामी चार दिन में कश्मीर में केवल आठ बैठकें होंगी जबकि जम्मू क्षेत्र में ऐसी 50 से अधिक बैठकें और कार्यक्रम होंगे। कोई भी मंत्री आतंकवाद से पीड़ित दक्षिण कश्मीर के पुलवामा, शोपियां, अनंतनाग और कुलगाम में नहीं जाएगा। इसके अलावा मंत्री बडगाम, कुपवाड़ा और बांदीपुर भी नहीं जाएंगे। इन दौरों का मकसद संविधान के अनुच्छेद 370 के निरसन के बाद जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा हट जाने से होने वाले लाभों के बारे में लोगों को अवगत कराना है।  अधिकारियों ने बताया कि यात्रा पर आने वाले मंत्री लोगों से संवाद करेंगे और उनसे विकास के विषय पर बातचीत करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।