पूर्वोत्तर के पांच राज्य पूरी तरह से कोरोना से मुक्त: जितेंद्र सिंह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 27, 2020   19:44
पूर्वोत्तर के पांच राज्य पूरी तरह से कोरोना से मुक्त: जितेंद्र सिंह

उन्होंने पूर्वोत्तर परिषद, शिलांग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही विभिन्न सरकारी निकायों और सार्वजनिक उपक्रमों के प्रतिनिधियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के जरिए बैठक की। उसके बाद उन्होंने यह टिप्पणी की।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने सोमवार को कहा कि पूर्वोत्तर के आठ राज्यों में से पांच पूरी तरह से कोरोना वायरस से मुक्त हैं और शेष तीन प्रदेशों में पिछले कई दिन से इस बीमारी का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। सिंह पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री भी हैं। उन्होंने पूर्वोत्तर परिषद, शिलांग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही विभिन्न सरकारी निकायों और सार्वजनिक उपक्रमों के प्रतिनिधियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस के जरिए बैठक की। उसके बाद उन्होंने यह टिप्पणी की।

सिंह ने कहा कि पूर्वोत्तर के पांच राज्यों - सिक्किम, नगालैंड, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर और त्रिपुरा पूरी तरह से कोरोना वायरस से मुक्त हैं। इसके अलावा तीन अन्य राज्य- असम, मेघालय और मिजोरम में कोरोना वायरस के क्रमशः आठ, 11 और एक मामले सामने आए थे। सिंह ने कहा कि ये सभी मरीज ठीक हो गए हैं और रविवार रात के बाद से कोई नया मामला नहीं आया है। उन्होंने क्षेत्र की राज्य सरकारों, मुख्यमंत्रियों और अपने मंत्रालय के अधिकारियों और परिषद को बेहतरीन समन्वय सुनिश्चित करने के लिए बधाई दी जिससे यह संभव हो सका है। 

इसे भी पढ़ें: मन की बात में बोले PM मोदी, कोरोना संकट ने समाज में तमाम तरह के नजरिये को भी बदला

सिंह ने कोरोना वायरस मरीजों की देखभाल और संक्रमण के प्रबंधन के लिए नयी स्वास्थ्य परियोजनाओं के संबंध में मिजोरम, मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर जैसे राज्यों से मिले प्रस्तावों की भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि इन परियोजनाओं को प्राथमिकता के साथ निपटाया जाएगा। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।