लखनऊ हवाई अड्डे पर उड़ानें शुरू, 800 से ज्यादा यात्रियों ने किया सफर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   09:38
लखनऊ हवाई अड्डे पर उड़ानें शुरू, 800 से ज्यादा यात्रियों ने किया सफर

एके शर्मा ने बताया कि तीन उड़ानें रद्द की गई। उन्होंने बताया कि दिशा-निर्देशों के अनुरूप सभी आवश्यक एहतियात बरते गए जिनमें यात्रियों के सामान का सैनिटाइजेशन, थर्मल स्क्रीनिंग, मास्क का इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन शामिल है।

लखनऊ। लॉकडाउन के कारण दो महीने से बंद पड़े राजधानी लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर सोमवार से उड़ानों का परिचालन शुरू हुआ और नौ उड़ानों से 800 से ज्यादा यात्रियों ने सफर किया। हवाई अड्डे के निदेशक ए के शर्मा ने बताया कि तीन उड़ानों से 355 यात्री लखनऊ पहुंचे। इनमें से दो उड़ानें दिल्ली और एक अहमदाबाद से आई। उन्होंने बताया कि लखनऊ से 452 यात्रियों को लेकर छह उड़ानें रवाना हुई। इनमें से तीन उड़ानें दिल्ली के लिए और एक एक उड़ान अहमदाबाद बेंगलुरु और मुंबई के लिए थीं। 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका ने प्रवासी कामगारों पर योगी के दावे पर उठाया सवाल, कहा- आंकड़ों का क्या है आधार?

शर्मा ने बताया कि तीन उड़ानें रद्द की गई। उन्होंने बताया कि दिशा-निर्देशों के अनुरूप सभी आवश्यक एहतियात बरते गए जिनमें यात्रियों के सामान का सैनिटाइजेशन, थर्मल स्क्रीनिंग, मास्क का इस्तेमाल और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन शामिल है। उधर प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि घरेलू उड़ानें शुरू होने के बाद यात्रियों को जो वेब लिंक प्रदान किया गया था, उसका सोमवार से इस्तेमाल शुरू हुआ।उन्होंने कहा कि यहां पहुंच रहे उत्तर प्रदेश के निवासियों को 14 दिन के लिए घर पर पृथकवास में रहना पड़ेगा। आगमन के छठे दिन विमान यात्री अपनी कोविड-19 की जांच करा सकते हैं और अगर वे नेगेटिव पाए जाएं तो उनका घर पर पृथकवास समाप्त हो जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।