Assam Flood Situation | असम में बाढ़ की स्थिति भीषण गंभीर, 29 जिलों में सात लाख से अधिक लोग प्रभावित

Assam
ani
रेनू तिवारी । May 21, 2022 8:53AM
असम में बाढ़ की स्थिति दिन पर दिन खराब होती जा रही हैं। भीषण बाढ़ में चार और लोगों की मौत हो गई। कछार जिले में जहां दो लोगों की मौत हुई, वहीं लखीमपुर और नगांव में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई।

गुवाहाटी। असम में बाढ़ की स्थिति दिन पर दिन खराब होती जा रही हैं। भीषण बाढ़ में चार और लोगों की मौत हो गई। कछार जिले में जहां दो लोगों की मौत हुई, वहीं लखीमपुर और नगांव में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई।असम में मौजूदा प्री-मानसून बाढ़ और भूस्खलन में मरने वालों की संख्या बढ़कर 14 हो गई है, जिससे राज्य के 34 में से 29 जिलों में करीब 7.12 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। वहीं, 29 प्रभावित जिलों के 2,251 गांवों में कुल 80036.90 हेक्टेयर फसल क्षेत्र प्रभावित हुआ है. 74,705 से अधिक लोगों ने 234 राहत शिविरों में शरण ली है।

असम में बाढ़ से प्रभावित जिले

प्रभावित जिले बारपेटा, विश्वनाथ, बोंगाईगांव, कछार, चराईदेव, दरांग, धेमाजी, धुबरी, डिब्रूगढ़, दीमा हसाओ, गोलपारा, गोलाघाट, हैलाकांडी, होजई, जोरहाट, कामरूप, कामरूप मेट्रोपॉलिटन, कार्बी आंगलोंग पश्चिम, करीमगंज, कोकराझार, लखीमपुर, माजुली, मोरीगांव, नगांव, नलबाड़ी, सोनितपुर, दक्षिण सालमार, तिनसुकिया और उदलगुरी।

इसे भी पढ़ें: वेड के मामले में हार्दिक ने कहा, इस बार नहीं मिला तकनीक का फायदा 

असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर 

असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी रही क्योंकि बाढ़ का पानी नए इलाकों में घुस गया है जिससे कुल 29 जिले प्रभावित हुए हैं। बाढ़ के कारण अब तक कुल 7,11,905 लोग प्रभावित हुए हैं। राज्य सरकार ने एक बुलेटिन में यह जानकारी दी। बुलेटिन के अनुसार बाढ़ के कारण चार और लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 14 हो गयी, जिसमें से पांच लोगों की मौत भूस्खलन के कारण हुई है।

इसे भी पढ़ें: नवजोत सिंह सिद्धू के लिए कांग्रेस में सहानुभूति नहीं! मिलने के लिए कोई वरिष्ठ नेता न अदालत पहुंचा न हीं घर 

7 लाख से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के अनुसार  बाढ़ प्रभावित आबादी की संख्या 7,17,500 थी और इसके कारण कुल 27 जिले प्रभावित थे। एएसडीएमए के मुताबिक कुल 343 राहत शिविरों में 86,772 लोगों ने शरण ली हुई है, जबकि 411 अन्य राहत वितरण केंद्र भी संचालित हैं। एएसडीएमए ने बुलेटिन में कहा कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ), राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) और स्वयंसेवकों की मदद से कुल 21,884 फंसे हुए लोगों को निकाला जा चुका है।

भारतीय वायु सेना भी लोगों का बचावकार्य में जुटी 

पिछले दो दिनों में भारतीय वायु सेना की मदद से कुल 269 फंसे हुए लोगों को बचाया गया है, जबकि 24 मीट्रिक टन खाद्य सामग्री सबसे बुरी तरह प्रभावित दीमा हसाओ जिले में पहुंचाई गई है। राज्य सरकार ने प्रभावित लोगों को मुफ्त राहत जारी करने के लिए कछार और दीमा हसाओ जिले में प्रत्येक को अतिरिक्त 2 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।

यूनिसेफ कर रहा है बाढ़ राहत कार्यों की निगरानी 

यूनिसेफ ने बाढ़ राहत कार्यों की निगरानी के लिए कछार, होजई, दरांग, विश्वनाथ, नगांव, मोरीगांव और दीमा हसाओ के आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों का समर्थन करने के लिए तकनीकी विशेषज्ञों और सलाहकारों की सात टीमों को तैनात किया है। असम आपदा प्रबंधन प्राधिकरण भी स्थिति अधिक गंभीर होने पर प्रतिक्रिया को और मजबूत करने के लिए आस-पास के राज्यों से आपदा प्रतिक्रिया बलों को बढ़ाने पर विचार कर रहा है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़