जम्मू-कश्मीर में सेना दिवस पर ध्रुव युद्ध स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित किया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 15, 2022   16:26
जम्मू-कश्मीर में सेना दिवस पर ध्रुव युद्ध स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित किया गया

प्रवक्ता ने बताया कि उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (जीओसी) लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने राष्ट्र के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए पुष्पचक्र अर्पित किया।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में उत्तरी कमान मुख्यालय में सेना दिवस कार्यक्रम के तहत ध्रुव युद्ध स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित किया गया। एक रक्षा प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। प्रवक्ता ने बताया कि उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (जीओसी) लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने राष्ट्र के लिए सर्वोच्च बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के लिए पुष्पचक्र अर्पित किया। लेफ्टिनेंट जनरल के एम करियप्पा के इस दिन 1949 में अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल सर फ्रांसिस बुचर के स्थान पर भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ के तौर पर पदभार ग्रहण करने की स्मृति में हर साल सेना दिवस मनाया जाता है।

इसे भी पढ़ें: शराब के शौकीनों की इस समस्या का दिल्ली सरकार ने किया समाधान, ग्राहकों को दी नई सुविधा

सेना कमांडर ने अपने संदेश में, सभी सैन्य कर्मियों को बहादुर शहीदों के समर्पण, संकल्प और बलिदान से प्रेरणा लेने और भविष्य की सभी चुनौतियों के लिए तैयार रहने का आह्वान किया। सैन्य कमांडर ने बहादुरी और विशिष्ट सेवा के लिए मेधावी इकाइयों और व्यक्तियों की भी सराहना की।

इसे भी पढ़ें: कुलाधिपति के तौर पर मेरी सहमति के बगैर 25 राज्य विवि के कुलपति नियुक्त किये गए :धनखड़

प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने सभी सैन्यकर्मियों, पूर्व सैनिकों, रक्षा असैन्य कर्मचारियों और उत्तरी कमान के कर्मियों के परिवार को शुभकामनाएं भी दीं। उन्होंने बताया कि इस अवसर पर, आर्मी वाइफ्स वेल्फेयर एसोसिएशन, उत्तरी कमान की क्षेत्रीय अध्यक्ष इना जोशी ने जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों पर स्वास्थ्य जांच शिविर का उद्घाटन भी किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।