केरल के पूर्व महाधिवक्ता सुधाकर प्रसाद का निधन, मुख्यमंत्री ने जताया शोक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 15, 2022   14:02
केरल के पूर्व महाधिवक्ता सुधाकर प्रसाद का निधन, मुख्यमंत्री ने जताया शोक
ani

केरल के पूर्व महाधिवक्ता (एजी) और वरिष्ठ वकील सीपी सुधाकर प्रसाद का रविवार को निधन हो गया। वह 81 वर्ष के थे। प्रसाद राज्य के सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले एजी थे। उनके परिवार में पत्नी, एक बेटी और एक बेटा हैं।

कोच्चि।  केरल के पूर्व महाधिवक्ता (एजी) और वरिष्ठ वकील सीपी सुधाकर प्रसाद का रविवार को निधन हो गया। वह 81 वर्ष के थे। प्रसाद राज्य के सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले एजी थे। उनके परिवार में पत्नी, एक बेटी और एक बेटा हैं। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार, प्रसाद का शनिवार देर रात 12 से 1 बजे के बीच एर्नाकुलम स्थित उनके आवास पर निधन हो गया। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने प्रसाद के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

इसे भी पढ़ें: गोरखपुर को CM योगी की सौगात, 144 करोड़ की परियोजनाओ का किया लोकार्पण और शिलान्यास, कही यह अहम बात

विजयन ने कहा कि वरिष्ठ वकील जब राज्य के महाधिवक्ता (एजी) थे, उन्होंने हमेशा सौंपे गए कार्यों को पूरा किया था और हमेशा वामपंथी राजनीति के प्रवक्ता रहे। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अखिल भारतीय अधिवक्ता संघ के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में प्रसाद ने संगठन का नेतृत्व करने में प्रमुख भूमिका निभाई थी। कानूनी बिरादरी के एक सूत्र ने कहा कि वरिष्ठ वकील पिछले कई महीनों से अस्पताल के चक्कर लगा रहे थे क्योंकि कोविड​​​​-19 से संक्रमित होने और इससे उबरने के बाद उनका स्वास्थ्य बिगड़ गया था।

इसे भी पढ़ें: बिजनौर में उधार के 30 रुपये मांगने पर दुकानदार की लाठी-डंडों से पिटाई, दर्दनाक तरह से हुई मौत

वरिष्ठ वकील ने यह भी कहा कि प्रसाद एक करीबी रिश्तेदार और एक दोस्त की मौत के बाद से भावनात्मक रूप से परेशान थे और उनके निधन के सदमे से उबर नहीं पाए थे। सूत्रों ने बताया कि 1964 में अपना कानूनी कॅरियर शुरू करने वाले प्रसाद 2006 से 2011 तक और फिर 2016 से 2021 तक दो बार केरल के महाधिवक्ता (एजी) रहे। उनका अंतिम संस्कार रविवार शाम साढ़े चार बजे किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।