कांग्रेस नेता का दावा, असम में भाजपा के सीएम उम्मीदवार हो सकते हैं पूर्व CJI गोगोई

गोगोई
भाजपा ने रंजन गोगोई के संबंध में तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके तरूण गोगोई के दावों का खंडन किया है। रंजन गोगोई को मार्च में सरकार ने राज्यसभा के लिए नामित किया था।
गुवाहाटी।  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तरुण गोगोई ने दावा किया है कि अयोध्या जमीन विवाद समेत विभिन्न अहम मामलों में फैसले सुनाने वाली पीठों की अगुवाई कर चुके पूर्व प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई अगले साल असम विधानसभा चुनाव में भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हो सकते हैं। हालांकि, भाजपा ने रंजन गोगोई के संबंध में तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके तरूण गोगोई के दावों का खंडन किया है। रंजन गोगोई को मार्च में सरकार ने राज्यसभा के लिए नामित किया था। 

इसे भी पढ़ें: डिजिटल कक्षाओं का ऑनलाइन देखा हाल, बाढ़ और बारिश से गाँव-शहर बेहाल...क्या यही न्यू इंडिया है?

तरुण गोगोई ने कहा कि यदि पूर्व प्रधान न्यायाधीश राज्यसभा जा सकते हैं तो वह असम में भाजपा के अगले मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के लिए भी राजी हो सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने कई सूत्रों से सुना है कि रंजन गोगोई मुख्यमंत्री पद के लिए भाजपा के उम्मीदवारों की सूची में हैं। मुझे संदेह है कि उन्हें अगले मुख्यमंत्री पद के संभावित उम्मीदवार के रूप में पेश कर दिया जाए।’’ कांग्रेस नेता ने दावा किया कि असम के पूर्व मुख्यमंत्री केशबचंद्र गोगोई के पुत्र रंजन गोगोई आसानी से मानवाधिकार आयोग या अन्य आयोगों के अध्यक्ष बन सकते थे लेकिन उन्होंने राज्यसभा की सदस्यता स्वीकार की, क्योंकि ‘उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: असम में कोरोना वायरस संक्रमण के 1,272 नए मामले, आठ मरीजों की मौत

तरूण गोगोई ने शनिवार को दावा किया, ‘‘भाजपा अयोध्या जमीन विवाद मामले के फैसले को लेकर रंजन गोगोई से खुश थी। यदि वह भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री पद के अगले उम्मीदवार के तौर पर राजी हो जाते हैं तो यह आश्चर्यजनक नहीं होगा। ’’ हालांकि, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रंजीत कुमार दास ने कहा, ‘‘लोग जब बुजुर्ग हो जाते हैं तो कई बेमतलब की चीजें बोलते हैं। तरूण गोगोई ने पूर्व प्रधान न्यायाधीश के भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बनने के बारे में जो कुछ कहा है, वह सच नहीं है।’’ तरूण गोगोई ने कहा कि वह कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार नहीं बनने जा रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़