कांग्रेस नेता ए वी गोपीनाथ ने पार्टी से दिया इस्तीफा, 50 साल पुराने संबंध को किया खत्म

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 30, 2021   14:24
कांग्रेस नेता ए वी गोपीनाथ ने पार्टी से दिया इस्तीफा, 50 साल पुराने संबंध को किया खत्म

पूर्व विधायक ए वी गोपीनाथ ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया।पलक्कड़ डीसीसी के पूर्व अध्यक्ष और केरल प्रदेश कांग्रेस समिति (केपीसीसी) के सदस्य गोपीनाथ ने कहा कि वह कांग्रेस के साथ अपने 50 साल पुराने संबंध को खत्म कर रहे हैं।

पलक्कड़ (केरल)। केरल में जिला कांग्रेस कमेटी (डीसीसी) के 14 अध्यक्षों के चयन को लेकर कांग्रेस में खींचतान के बीच वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विधायक ए वी गोपीनाथ ने सोमवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफे की घोषणा की। पलक्कड़ डीसीसी के पूर्व अध्यक्ष और केरल प्रदेश कांग्रेस समिति (केपीसीसी) के सदस्य गोपीनाथ ने कहा कि वह कांग्रेस के साथ अपने 50 साल पुराने संबंध को खत्म कर रहे हैं। यहां संवाददाता सम्मेलन में पार्टी से इस्तीफे की घोषणा करते हुए, वरिष्ठ नेता ने कहा कि वह पार्टी की प्रगति में बाधक नहीं बनेंगे, जिसके लिए उन्होंने पिछले पांच दशकों में अथक प्रयास किए हैं।

इसे भी पढ़ें: MP बाल कांग्रेस के गठन पर कैबिनेट मंत्री ने उठाया सवाल

गोपीनाथ के समर्थकों ने डीसीसी प्रमुख के पद पर उनकी नियुक्ति के लिए दबाव डाला था, लेकिन नेतृत्व ने जिले में पार्टी की अगुवाई करने के लिए ए थंकप्पन को चुना। गोपीनाथ ने इस साल की शुरुआत में राज्य में हुए विधानसभा चुनावों में उन्हें टिकट न देने पर विरोध किया था, लेकिन ओमन चांडी और के सुधाकरन सहित पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें शांत करा दिया था। गोपीनाथ ने आरोप लगाया था कि उन्हें पार्टी में पिछले कई वर्षों से किनारे कर दिया गया है और वह इसे हल्के में नहीं लेंगे। पार्टी के राज्य नेतृत्व द्वारा डीसीसी प्रमुखों का चयन करने के तरीके के खिलाफ वरिष्ठ नेता ओमन चांडी और रमेश चेन्नीथला खुलकर सामने आये हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।