पूर्व सांसद अतीक अहमद की 60 करोड़ की अचल संपत्तियां कुर्क

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   22:34
पूर्व सांसद अतीक अहमद की 60 करोड़ की अचल संपत्तियां कुर्क

शहर के चकिया मोहल्ले में अतीक अहमद के एक मकान और करबला स्थित दूसरे मकान को कुर्क किया गया जिनका बाजार मूल्य लगभग 35 करोड़ रुपये है। विज्ञप्ति के मुताबिक, अब तक भूमाफिया अतीक अहमद की करीब 60 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की जा चुकी है।

प्रयागराज। शहर के पूर्व सांसद अतीक अहमद की 35 करोड़ रुपये मूल्य की दो अचल संपत्तियों को बृहस्पतिवार को कुर्क किया गया जबकि पांच संपत्तियों की कुर्की बुधवार को की गई थी जिनका बाजार मूल्य 25 करोड़ रुपये है। जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक दीक्षित की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि बृहस्पतिवार को शहर के चकिया मोहल्ले में अतीक अहमद के एक मकान और करबला स्थित दूसरे मकान को कुर्क किया गया जिनका बाजार मूल्य लगभग 35 करोड़ रुपये है। विज्ञप्ति के मुताबिक, अब तक भूमाफिया अतीक अहमद की करीब 60 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की जा चुकी है। 

इसे भी पढ़ें: बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद की सात अचल संत्तियों की कुर्की का आदेश

जिले में भू-माफियाओं द्वारा अपराधों से अर्जित की गई संपत्ति की कुर्की की कार्यवाही पुलिस द्वारा लगातार जारी रहेगी। उल्लेखनीय है कि प्रयागराज के जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के पांच अगस्त, 2020 के पत्र और कैंट थाना प्रभारी की आख्या के आधार पर पूर्व सांसद अतीक की सात अचल संपत्तियों को कुर्क करने का आदेश जारी किया था। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने उपरोक्त आख्या में अतीक अहमद द्वारा अर्जित की गई अचल संपत्तियों को कुर्क करने की सिफारिश की थी। जिलाधिकारी ने गिरोहबंद एवं समाज विरोधी क्रिया कलाप निवारण अधिनियम की धारा 14(1) के अंतर्गत प्रदत्त अधिकारों का उपयोग करते हुए इन सात अचल संपत्तियों को कुर्क करने का आदेश पारित किया और इन संपत्तियों के लिए प्रशासकों की नियुक्ति की। उल्लेखनीय है कि पूर्व सांसद अतीक अहमद वर्तमान में गुजरात की जेल में बंद है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।