उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा का निधन, अखिलेश यादव ने जताया दुख

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2021   11:24
उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा का निधन, अखिलेश यादव ने जताया दुख

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राममूर्ति सिंह वर्मा का निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वर्मा 71 साल के थे।

शाहजहांपुर/लखनऊ (उप्र)। उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री, पूर्व सांसद और समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता राममूर्ति सिंह वर्मा का निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। वर्मा 71 साल के थे। वर्मा उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार में दो बार राज्य मंत्री तथा तीन बार जलालाबाद से तथा एक बार ददरौल क्षेत्र से विधानसभा के सदस्य तथा शाहजहांपुर लोकसभा क्षेत्र से दो बार सांसद भी रहे थे। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वर्मा के निधन पर शुक्रवार को दुख जताया। यादव ने अपने ट्वीट के जरिये संवेदना प्रकट की।

इसे भी पढ़ें: महामारी के शिकार लोगों के सम्मानजनक अंतिम संस्कार की व्यवस्था करे सरकार: कुमारस्वामी

ट्वीट में वर्मा के निधन को अत्यंत दुखद बताते हुए सपा अध्यक्ष यादव ने अपनी पार्टी के संस्‍थापक सदस्‍य के निधन की सूचना दी और कहा दिवंगत आत्मा को शांति दे भगवान। शोकाकुल परिजनों के प्रति गहन संवेदना। भावभीनी श्रद्धांजलि। समाजवादी पार्टी के शाहजहांपुर के जिलाध्यक्ष तनवीर खां ने फोन पर पीटीआई- को बताया कि राममूर्ति सिंह वर्मा तीन मार्च से दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती थे। इसके बाद जब वहां से उन्हें छुट्टी दे दी गई तो परिजन ने उन्हें 21 अप्रैल को बरेली के एक निजी अस्पताल में भर्ती करा दिया जहां बृहस्पतिवार रात इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें: कोरोना से भारत का हाल बेहाल! एक दिन में 3,32,730 नए मामले, 2200 से ज्यादा लोगों की मौत

उन्होंने बताया कि वर्मा के दोनों गुर्दे खराब हो चुके थे और वह नियमित डायलिसिस पर थे। उल्लेखनीय है कि शाहजहांपुर में 2015 में राममूर्ति सिंह वर्मा पर एक पत्रकार को जलाकर हत्या करने का आरोप लगा था जिसमें पूर्व मंत्री पर खुटार थाने में हत्या का मामला दर्ज किया गया था। बाद में पत्रकार के परिजनों की ओर से सुलह समझौते के बाद मामला खत्म हो गया। उस समय यह मामला देश स्‍तर पर सुर्खियों में आया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।