मथुरा में सड़क हादसे में चार लोगों की मौत, 16 घायल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 26, 2020   07:04
मथुरा में सड़क हादसे में चार लोगों की मौत, 16 घायल

दुर्घटना के बाद सड़क पर चीख-पुकार मच गई। जिसे सुनकर राहगीर और आसपास के ग्रामीण मौके पर एकत्रित हो गए। सूचना मिलने पर एक्सप्रेस-वे कर्मी भी मौके पर पहुंच गए और उन्होंने ग्रामीणों की मदद से घायलों को बाहर निकाला।

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में यमुना एक्सप्रेस-वे पर मंगलवार दो नौहझील क्षेत्र में एक क्रूजर टैक्सी अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गई। हादसे में टैक्सी में सवार चार लोगों की मौत हो गई। वहीं 16 यात्री गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को वृन्दावन सौ शैया अस्पताल और जेवर के कैलाश अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार एक क्रूजर टैक्सी आगरा से 21 यात्रियों को लेकर यमुना एक्सप्रेस-वे से नोएडा की ओर जा रही थी। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र इमारत हादसा: 64 वर्षीय बुजुर्ग अपनी बेटी और नाती-नतिनी की तलाश में बेचैन

थाना नौहझील क्षेत्र में माइल स्टोन 59 पर गांव चांदपुर खुर्द के निकट क्रूजर टैक्सी अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गई। दुर्घटना के बाद सड़क पर चीख-पुकार मच गई। जिसे सुनकर राहगीर और आसपास के ग्रामीण मौके पर एकत्रित हो गए। सूचना मिलने पर एक्सप्रेस-वे कर्मी भी मौके पर पहुंच गए और उन्होंने ग्रामीणों की मदद से घायलों को बाहर निकाला। उन्होंने बताया कि हादसे में सतीश उरांव,चिंटू (डेढ़ वर्ष), मनोज खाका (34)की मौके पर ही मौत हो गयी। सभी बिहार के पूर्णिया जिले के रहने वाले थे। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के सीहोर में नदी में डूबने से तीन लड़कियों की मौत, मुख्यमंत्री ने जताया शोक

एक्सप्रेस-वे कर्मियों ने घायलों को वृन्दावन के सौ शैया अस्पताल और जेवर के कैलाश अस्पताल में भर्ती कराया। सौ शैया अस्पताल में एक घायल ने और दम तोड़ दिया हालांकि मृतक की अभी पहचान नहीं हो सकी है। हादसे के बाद देहात पुलिस अधीक्षक श्रीश चंद ने बताया, हादसा अत्यधिक तेज गति से टैक्सी चलाने के कारण हुआ।अभी तक चार लोगों की मौत हो चुकी है। घायलों में कई की हालत नाजुक है। मृतकों की शिनाख्त और घायलों की पहचान कराई जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।