कोरोना से मर चुके लोगों के नाम पर धोखाधड़ी, आधार-पैन कार्ड से लेते थे करोड़ों का लोन

arrest
Prabhsakshi
निधि अविनाश । Aug 28, 2022 2:07PM
कोरोना से मर चुके लोगों के नाम पर दो आरोपियों ने फर्जीवाड़ा किया है। दोनों आरोपियों में एक का नाम मृगांक सहाय और दूसरे का नाम अभिषेक भारती हैऔरदोनों पहले इंश्योरेंस कंपनियों में काम भी कर चुके है। पुलिस के मुताबिक,आरोपियों ने 23 से 24 बैंकों से लोन लिया था जो अप्रूव भी हुआ। इनकी कीमत करोड़ों में है।

कोरोना से मरने वाले लोगों की फ्रजी आईडी बनाकर बैंक से करोड़ों रुपए लोन लेने का मामला सामने आया है। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में विभुतिखंड पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। डीसीपी पूर्वी प्राची सिंह के मुताबिक, आरोपी कोविड से मरने वाले लोगों के नाम पर बैंकों से लोन लेते थे। दोनों आरोपियों में एक का नाम मृगांक सहाय और दूसरे का नाम अभिषेक भारती है और दोनों पहले इंश्योरेंस कंपनियों में काम भी कर चुके है। पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने 23 से 24 बैंकों से लोन लिया था जो अप्रूव भी हुआ। इनकी कीमत करोड़ों में है।

इसे भी पढ़ें: सोनाली फोगाट हत्या मामले को लेकर बोले प्रमोद सावंत, मेरी हरियाणा CM से हुई बात, CBI को जांच सौंपने में हमें कोई दिक्कत नहीं

आरोपियों ने एचडीएफसी बैंक से लोन लेने के लिए आवेदन किया। बैंक को शक हुआ तो अधिकारियों ने आधार, पैन कार्ड और अन्य दस्तावेजों की जांच की तो पता चला की सभी डॉक्यूमेंट्स फर्जी है। कानपुर स्थित एचडीएफसी बैंक के मैनेजर अतुल भारती ने विभुतिखंड पुलिस में केस दर्ज कराया जिसके बाद आरोपियों को पकड़ गया।

इसे भी पढ़ें: राजनाथ सिंह ने कल्याण सिंह की प्रतिमा का किया अनावरण, बोले- मुझे उनका अत्यधिक स्नेह प्राप्त हुआ

आरोपी कोविड से मृत लोगों की जाली आईडी बनाकर फोटो चस्पा कर देते थे। जब पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ की तो पचा चला की आरोपी इश्योरेंस एजेंट था और कोरोना से मरने वाले लोगों का डाटा उसके पास था। मृत लोगों के बैंक अकाउंट, आधार कार्ड और पैन कार्ड का गलत इस्तेमाल किया जा रहा था।

अन्य न्यूज़