दुष्कर्म पीड़िता को धमकी देने के आरोप में फ्रीडम 251 स्मार्टफोन के संस्थापक समेत तीन गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 10, 2021   08:32
दुष्कर्म पीड़िता को धमकी देने के आरोप में फ्रीडम 251 स्मार्टफोन के संस्थापक समेत तीन गिरफ्तार
प्रतिरूप फोटो

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह मामला अगस्त 2020 में सामने आया जब द्वारका में एक व्यक्ति द्वारा कथित रूप से बलात्कार की शिकार एक महिला ने शिकायत के साथ पुलिस से संपर्क किया और आरोप लगाया कि आरोपी उसे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहा है।

नयी दिल्ली| दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन कहे जाने वाले फ्रीडम 251 के निर्माता सहित तीन लोगों को द्वारका में एक बलात्कार पीड़िता को कथित तौर पर एक साल तक धमकी देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया।

पुलिस ने शनिवार को यह जानकारी दी। आरोपियों की पहचान सुमित यादव, विनीत कुमार और मोहित गोयल के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार शामली के रहने वाले गोयल ने रिंगिंग बेल्स प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की थी और केंद्र सरकार के ‘डिजिटल इंडिया’ कार्यक्रम के तहत सस्ती दरों पर स्मार्टफोन की पेशकश की थी तथा इस तरह के फोन का नाम फ्रीडम 251 रखा गया था।

इसे भी पढ़ें: केंद्र ने दिल्ली सरकार की राशन को घर तक पहुंचाने की योजना खारिज की : आप

पुलिस ने कहा कि गोयल के खिलाफ धोखाधड़ी के 48 मामले हैं और पूर्व में उसे गिरफ्तार भी किया गया था तथा बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया था। पुलिस ने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोग, बलात्कार के आरोपी से बदला लेना चाहते थे और उन्होंने कथित रूप से पीड़िता को धमकी दी।

उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर यह मामला पिछले साल दिसंबर में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा इकाई को स्थानांतरित कर दिया गया था।

 

इसे भी पढ़ें: निजी क्लिनिक में प्रसव पूर्व लिंग का पता लगाने में इस्तेमाल की जाने वाली अवैध अल्ट्रासाउंड मशीन मिली: डीसीडब्ल्यू


एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि यह मामला अगस्त 2020 में सामने आया जब द्वारका में एक व्यक्ति द्वारा कथित रूप से बलात्कार की शिकार एक महिला ने शिकायत के साथ पुलिस से संपर्क किया और आरोप लगाया कि आरोपी उसे गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।