डोमिनिका के अस्पताल में भर्ती हुआ भगोड़ा मेहुल चोकसी, कोरोना रिपोर्ट आयी निगेटिव

डोमिनिका के अस्पताल में भर्ती हुआ भगोड़ा मेहुल चोकसी, कोरोना रिपोर्ट आयी निगेटिव

पिछले हफ्ते डोमिनिका में पकड़े गए भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को सोमवार को राजधानी रोसेउ के डोमिनिका चाइना फ्रेंडशिप अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार चोकसी ने कोविड -19 के लिए नकारात्मक परीक्षण किया है।

पिछले हफ्ते डोमिनिका में पकड़े गए भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को सोमवार को राजधानी रोसेउ के डोमिनिका चाइना फ्रेंडशिप अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उनकी मेडिकल रिपोर्ट के अनुसार चोकसी ने कोविड -19 के लिए नकारात्मक परीक्षण किया है। चोकसी एंटीगुआ और बारबुडा में कुछ दिनों के लिए लापता हो गया था, और 26 मई को डोमिनिका में उसका पता लगाया गया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। वह भारत से भागने के बाद जनवरी 2018 से एंटीगुआ और बारबुडा में रह रहा था। चोकसी के वकील डोमिनिकन कोर्ट पहुंच गए हैं जहां उनकी ओर से बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की गई है। चोकसी के वकील ने आरोप लगाया कि चोकसी का पुलिस ने "अपहरण" किया था, एंटीगुआ पुलिस ने ऐसे दावों का खंडन किया है। एंटीगुआ और बारबुडा के प्रधान मंत्री गैस्टन ब्राउन ने रविवार को डोमिनिका से चोकसी को सीधे भारत निर्वासित करने का अनुरोध किया।

 

इसे भी पढ़ें: भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में आयी कमी! एक दिन में 1.52 लाख नये मामले, 3128 मौतें

 

भारतीय बैंक से कर्ज धोखाधड़ी के मामले में वांछित भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के बारे में एंटीगुआ और बारबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने कहा है कि शायद चोकसी अपनी प्रेमिका को डिनर (रात्रि भोजन) कराने अथवा उनके साथ अच्छा वक्त बिताने नाव के जरिए पड़ोसी देश डोमिनिका गया था। ‘एंटीगुआ न्यूज रूम’ के मुताबिक, ब्राउन ने कहा कि डोमिनिका की सरकार और कानून लागू करने वाली एजेंसियां उसे भारत को प्रत्यर्पित कर सकती हैं क्योंकि वह एक भारतीय नागरिक है। उन्होंने कहा, हमें प्राप्त हो रही सूचना के मुताबिक, मेहुल चोकसी शायद अपनी प्रेमिका को डिनर कराने या अच्छा वक्त बिताने डोमिनिका गया और वहां पकड़ा गया। यह एक ऐतिहासिक गलती होगी क्योंकि एंटीगुआ में चोकसी एक नागरिक है और हम उसे प्रत्यर्पित नहीं कर सकते। ब्राउन ने कहा, समस्या यह है कि अगर चोकसी को इसलिए वापस भेजा जाता है कि वह एंटीगुआ का नागरिक है जबकि भले ही उसकी नागरिकता अस्थिर है, फिर भी उसे संवैधानिक एवं वैधानिक संरक्षण प्राप्त है। हमें इस बात में कोई संदेह नहीं है कि आखिरकार चोकसी की नागरिकता रद्द की जाएगी क्योंकि उसने अपने बारे में जानकारी का खुलासा नहीं किया था।

इसे भी पढ़ें: भारत चीन सीमा क्षेत्र का दौरा करने के बाद जयराम ठाकुर ने कहा- केंद्र को कराएंगे इससे अवगत  

‘एंटीगुआ न्यूज रूम’ के मुताबिक कतर एयरवेज का एक निजी विमान डोमिनिका में डगलस-चार्ल्स हवाई अड्डे पर उतरा, जिसके बाद चोकसी के प्रत्यर्पण को लेकर अटकलें लगने लगी हैं। एंटीगुआ और बारबुडा से रहस्यमय परिस्थितियों में लापता हुए चोकसी को पड़ोस के डोमिनिका में पकड़ा गया था। ब्राउन ने रेडिशा शो में बताया कि चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए जरूरी दस्तावेज लेकर विमान भारत से आया है। भारतीय प्राधिकारों ने इस बारे में हालांकि आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं की है। कतर की एक्जीक्यूटिव उड़ान ए7सीईई के सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक इस विमान ने 28 मई को तड़के तीन बजकर 44 मिनट पर दिल्ली हवाई अड्डे से उड़ान भरी और उसी दिन स्थानीय समयानुसार दिन में एक बजकर 16 मिनट पर डोमिनिका पहुंचा। डोमिनिका के उच्च न्यायालय ने चोकसी को उसके यहां से ले जाने पर रोक लगा दी है और इस मामले में दो जून को खुली अदालत में सुनवाई के बाद ही आगे की कार्रवाई पर फैसला होगा।

चोकसी ने आरोप लगाया है कि एंटीगुआ और भारतीय की तरह दिखने वाले पुलिसकर्मियों ने उसे एंटीगुआ और बारबुडा में जॉली बंदरगाह से अगवा किया और उसे डोमिनिका ले गए। डोमिनिका से चोकसी की एक तस्वीर सामने आयी है जिसमें उसकी आंखें सूजी हुई थीं और उसके हाथ पर खरोंच के निशान थे। चोकसी और उसके भांजे नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक से 13,500 करोड़ रुपये की धनराशि का कथित तौर पर गबन किया। नीरव मोदी लंदन की एक जेल में बंद है और वह भारत प्रत्यर्पित किए जाने के खिलाफ मुकदमा लड़ रहा है। चोकसी ने 2017 में एंटीगुआ एंड बारबुडा की नागरिकता ली थी और जनवरी 2018 के पहले हफ्ते में भारत से भाग गया था। इसके बाद ही यह घोटाला सामने आया था। दोनों ही सीबीआई जांच का सामना कर रहे हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।