20 सितम्बर 21 को होगी पूर्णिमा ,इस दिन से शुरू होगा पितृ पक्ष, जानें दिन, तिथियां

20 सितम्बर 21 को होगी पूर्णिमा ,इस दिन से शुरू होगा पितृ पक्ष, जानें दिन, तिथियां

हिंदू धर्म में पितृ पक्ष का खास महत्‍व होता है। मृत्‍यु के बाद भी हिंदू धर्म में पूर्वजों का समय-समय पर स्‍मरण किया जाता है, और श्राद्ध पक्ष उन्‍हीं के प्रति अपनी कृतज्ञता जाहिर करने और उनके निमित्‍त दान करने का पर्व है।

हिंदू धर्म में पितृ पक्ष का खास महत्‍व होता है। मृत्‍यु के बाद भी हिंदू धर्म में पूर्वजों का समय-समय पर स्‍मरण किया जाता है, और श्राद्ध पक्ष उन्‍हीं के प्रति अपनी कृतज्ञता जाहिर करने और उनके निमित्‍त दान करने का पर्व है। मान्‍यता है कि यदि श्राद्ध न किया जाए तो मरने वाले व्यक्ति की आत्मा को मुक्ति नहीं मिलती है। ऐसा माना जाता है कि पितृ में पितरों के निमित्‍त दान-पुण्‍य करने से हमारी कुंडली से पितृ दोष का दुष्‍प्रभाव समाप्‍त होता है। 

प्रतिवर्ष पितृ पक्ष का आरंभ आश्विन मास महीने की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से होता है जो आश्विन अमावस्या तिथि को समाप्त होता है।  हिन्दू धर्म में माता-पिता की सेवा को सबसे बड़ी पूजा माना गया है। इसलिए हिंदू धर्म शास्त्रों में पितरों का उद्धार करने के लिए पुत्र की अनिवार्यता मानी गई हैं। जन्मदाता माता-पिता को मृत्यु-उपरांत लोग विस्मृत न कर दें, इसलिए उनका श्राद्ध करने का विशेष विधान बताया गया है। पितृपक्ष में हिन्दू लोग मन कर्म एवं वाणी से संयम का जीवन जीते हैं; पितरों को स्मरण करके जल चढाते हैं; निर्धनों एवं ब्राह्मणों को दान देते हैं। पितृपक्ष में प्रत्येक परिवार में मृत माता-पिता का श्राद्ध किया जाता है। आइए जानते हैं साल 2021 में कब से शुरू हो रहे हैं पितृ पक्ष और क्या हैं इसकी तिथियां-

Date : Pitr Paksh 2021 

इस साल पितृपक्ष 20 सितंबर से शुरू हो रहे हैं, अंतिम श्राद्ध यानी अमावस्या श्राद्ध 06 अक्टूबर को होगा

श्राद्ध पक्ष 2021 की डेट्स 

पूर्णिमा श्राद्ध - 20 सितंबर

प्रतिपदा श्राद्ध - 21 सितंबर

द्वितीया श्राद्ध - 22 सितंबर

तृतीया श्राद्ध - 23 सितंबर

चतुर्थी श्राद्ध - 24 सितंबर

पंचमी श्राद्ध - 25 सितंबर

षष्ठी श्राद्ध - 27 सितंबर

सप्तमी श्राद्ध - 28 सितंबर

अष्टमी श्राद्ध- 29 सितंबर

नवमी श्राद्ध - 30 सितंबर

दशमी श्राद्ध - 1 अक्तूबर

एकादशी श्राद्ध - 2 अक्तूबर

द्वादशी श्राद्ध- 3 अक्तूबर

त्रयोदशी श्राद्ध - 4 अक्तूबर

चतुर्दशी श्राद्ध- 5 अक्तूबर

पितृ अमावस्‍या का श्राद्ध- 6 अक्‍टूबर





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।