गढ़ गंगा क्षेत्र को नये तीर्थ के तौर पर विकसित करेंगे: योगी आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2018   19:13
गढ़ गंगा क्षेत्र को नये तीर्थ के तौर पर विकसित करेंगे: योगी आदित्यनाथ

उन्होंने जनपद के विकास कार्यों की पुस्तिका का विमोचन एवं करोड़ों रुपये की विकास योजनाओं का लोकार्पण तथा शिलान्यास किया।

गढ़मुक्तेश्वर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां कार्तिक पूर्णिमा मेले के दौरान बीस करोड़ रुपये की लागत से चार परियोजनाओं को चालू करने की घोषणा की और कहा कि इस क्षेत्र को नये तीर्थ के रूप में विकसित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने जिन परियोजनाओं की घोषणा की उनमें अतिथिगृह, मनोरंजन पार्क, लेज़र साउंड एंड लाइट शो और श्रद्धालुओं के विश्राम के लिए एक शेड का निर्माण शामिल है। मुख्यमंत्री बृहस्पतिवार दोपहर गढ़ गंगा मेले में पहुंचे। यहां उन्होंने सर्वप्रथम पूजा औरगंगा आरती की।

उन्होंने जनपद के विकास कार्यों की पुस्तिका का विमोचन एवं करोड़ों रुपये की विकास योजनाओं का लोकार्पण तथा शिलान्यास किया। योगी ने कहा उत्तर प्रदेश सरकार केंद्र के साथ मिलकर इस मेले को एक नए तीर्थ के रूप में विकसित करने के लिए कदम उठा रही है। इसके लिए हम एक योजना बनाकर इस क्षेत्र का समग्र भौतिक विकास करवाने की दिशा में काम कर रहे हैं। इस मेले का इतिहास 5000 वर्ष पुराना है और इस परम्परा को और मजबूत करना है।

मुख्यमंत्री ने गंगा के ऊपर पुल बनवाने की भी घोषणा की और कहा कि इस पुल के बन जाने से यहां आने वाले श्रद्धालुओं को गंगा पूजा में काफी आसानी हो जाएगी। क्षेत्र की चीनी मिलों के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि हम समझते हैं कि नए सत्र में हम दो नई चीनी मिलें चालू करने की स्थिति में होंगे जहां पहले से 119 मिलें चल रही हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने गन्ना किसानों को मिलने वाले बचे हुए मुआवज़े केलिए 6000 करोड़ रूपये की व्यवस्था की है और प्रशासन को 30 नवंबर तक हर हाल में मुआवज़ा देने के निर्देश दे दिए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।