कानपुर अयोध्या में गंगा-सरयू खतरे के निशान से ऊपर बह रही, कुछ इलाकों में बाढ़ आने की आशंका

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   18:24
कानपुर अयोध्या में गंगा-सरयू खतरे के निशान से ऊपर बह रही, कुछ इलाकों में बाढ़ आने की आशंका

कानपुर में गंगा की अपस्ट्रीम में तो पानी का स्तर 113 मीटर पर स्थिर रहा, लेकिन सुबह से शाम के बीच डाउनस्ट्रीम में जलस्तर बढ़ गया था। सबुह डाउनस्ट्रीम 112.48 मीटर और शाम को 112.60 मीटर पर था। शुक्लागंज में भी सबुह पानी का स्तर 111.37 मीटर और शाम को 111.45 मीटर पर था।

पहाड़ों पर हुई जोरदार बारिश का असर मैदानी क्षेत्रों में गंगा के प्रवाह पर दिखने लगा है। कानपुर में गंगा के जलस्तर में तेज बढ़ोतरी दर्ज की गई। शहर में गंगा 113 मीटर के स्तर पर बहती रही। जबकि चेतवानी बिंदु 114 मीटर पर है। उन्नाव के शुक्लागंज में यहां चेतावनी बिंदु 113 मीटर पर है। 

इसे भी पढ़ें: समाज के कमजोर वर्गों के हित में नरेंद्र मोदी सरकार ने लिया ऐतिहासिक निर्णय: सुरेश कश्यप

कानपुर में गंगा की अपस्ट्रीम में तो पानी का स्तर 113 मीटर पर स्थिर रहा, लेकिन सुबह से शाम के बीच डाउनस्ट्रीम में जलस्तर बढ़ गया था। सबुह डाउनस्ट्रीम 112.48 मीटर और शाम को 112.60 मीटर पर था। शुक्लागंज में भी सबुह पानी का स्तर 111.37 मीटर और शाम को 111.45 मीटर पर था। अधिकारियों के मुताबिक इसी तरह पानी का स्तर बढ़ता रहा तो जल्द ही उन्नाव और कानपुर के कुछ इलाकों में बाढ़ आ सकती है। 

इसे भी पढ़ें: किशोर न्याय बच्चों की देखभाल एवं संरक्षण संशोधन विधेयक में क्या है नए प्रावधान? यहां पढ़े

उधर अयोध्या में सरयू नदी खतरे के निशान से 9 सेंटीमीटर ऊपर पहंुच गया है। इससे सोहावल सदर और रूदौली तहसीलों के कई गांवों में बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। सोहावल तहसील के तराई के दर्जनों गांवों में सरयू नदी की कटान पर बाढ़ के खतरे से डरे हुए ग्रामीण पलायन करने लगे हैं। लोग परिवार के लिए सुरक्षित जगह की तलाश रहे हैं। जानकारी के मुताबिक बीते 24 घंटे के दौरान हुई बारिश में सरयू का जलस्तर बढ़ गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।