महामारी के दौरान तुअर दाल के सड़ने की जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने की मांग की जीएफपी ने

Tur Daal
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के अध्यक्ष विजय सरदेसाई ने शनिवार को आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान खरीदी गई 241 टन तुअर दाल को गोदामों में सड़ने के लिए छोड़ दिया और मामले की जांच केंद्रीय एजेंसियों से कराने की मांग की।

पणजी, 14 अगस्त। गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के अध्यक्ष विजय सरदेसाई ने शनिवार को आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान खरीदी गई 241 टन तुअर दाल को गोदामों में सड़ने के लिए छोड़ दिया और मामले की जांच केंद्रीय एजेंसियों से कराने की मांग की। सरदेसाई ने कहा कि जीएफपी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मामले में उनसे हस्तक्षेप करने और जांच के आदेश देने की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘राज्य के नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा खरीदी गयी, 241 टन तुअर दाल को गोवा सरकार ने गोदामों में सड़ने के लिए छोड़ दिया था, जब लोग कोविड-19 महामारी के समय में आवश्यक वस्तुओं को प्राप्त करने के लिए जद्दोजहद कर रहे थे।’’

उन्होंने कहा कि अरहर दाल की खरीद वर्ष 2020 में की गई थी जब दुनिया महामारी की चपेट में थी। जीएफपी प्रमुख ने महामारी के दौरान अनाज की खरीद पर एक श्वेत पत्र जारी करने की भी मांग की। इस बारे में पूर्व नागरिक आपूर्ति मंत्री गोविंद गौडे ने कहा कि राज्य सरकार ने तुअर दाल के सड़ने की जांच शुरू कर दी है। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत को पत्र लिखकर मामले की जांच की मांग की थी, हमें जांच रिपोर्ट का इंतजार करना होगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़