आतंकवादियों को तुरंत मारने की बजाय उन्हें दो दिन का समय देना चाहिएः गुलाम नबी आजाद

आतंकवादियों को तुरंत मारने की बजाय उन्हें दो दिन का समय देना चाहिएः गुलाम नबी आजाद

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने राजौरी में पत्रकारों से बातचीत के दौरान सुरक्षा बलों को सलाह दी कि यदि आतंकवादी किसी के मकान में घुस गये हैं तो उन्हें तुरंत नहीं मारा जाये बल्कि दो दिन का इंतजार किया जाये।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने सुरक्षा बलों से केंद्र शासित प्रदेश में आतंकवाद विरोधी अभियानों के दौरान संयम रखने के लिए कहा है। राजौरी जिले में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने आतंकवाद की तुलना 'सांप और सीढ़ी' के खेल से की और कहा कि आतंक रोधी अभियानों के दौरान आम नागरिकों के मारे जाने से आतंकवाद और बढ़ता है। उन्होंने बाद में पत्रकारों से बातचीत के दौरान सुरक्षा बलों को सलाह दी कि यदि आतंकवादी किसी के मकान में घुस गये हैं तो उन्हें तुरंत नहीं मारा जाये बल्कि दो दिन का इंतजार किया जाये।

अमित शाह ने गिनाये 370 हटाने के फायदे

दूसरी ओर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि 2019 में अनुच्छेद 370 के प्रावधान निरस्त होने के बाद से कश्मीर में शांति है, वहां व्यवसाय के लिए अच्छा निवेश हो रहा है और पर्यटक आ रहे हैं। ‘एचटी लीडरशिप समिट’ में अपने संबोधन में अमित शाह ने कहा कि किसी को विश्वास नहीं था कि अनुच्छेद 370 और 35 ए को हटाया जा सकता है लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने 2019 में यह कर दिखाया। शाह ने कहा, “मैं कह सकता हूं कि अब कश्मीर में शांति है, निवेश हो रहा है और पर्यटक आ रहे हैं। धीरे-धीरे कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे हैं और वह देश के साथ एक होकर खड़ा है।” उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक के जरिये यह स्पष्ट कर दिया कि भारतीय सीमा में घुसना इतना आसान नहीं है। शाह ने कहा कि अब तक इस काम को करने के लिए इजराइल और अमेरिका का ही नाम लिया जाता था लेकिन अब भारत भी उस सूची में शामिल हो गया है। उन्होंने कहा, “हम सबके साथ शांति चाहते हैं…। हमारी सीमाओं की सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है और हमने इस संदर्भ में एक स्पष्ट संदेश दिया है।” उन्होंने कहा, “इसके कारण भारत को अब दुनियाभर में एक अलग तरह की स्वीकार्यता मिली है।”

छोटे तारे फाउंडेशन ने किया आयोजन

अब बात करते हैं विश्व विक्लांगता दिवस की। श्रीनगर के कॉलेज ऑफ एजुकेशन में छोटे तारे फाउंडेशन द्वारा एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। हम आपको बता दें कि छोटे तारे फाउंडेशन पिछले 21 वर्षों से केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में दिव्यांग बच्चों की जरूरतों को पूरा करने वाला संगठन है। फाउंडेशन की ओर से आज आयोजित कार्यक्रम में दिव्यांग बच्चों ने अपनी कला और हुनर का प्रदर्शन कर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। फाउंडेशन की निदेशक अर्जुमंद मकदूमी ने प्रभासाक्षी से बातचीत में कहा कि दिव्यांग बच्चे कई बार अन्यों की अपेक्षा ज्यादा बड़ा काम कर दिखाते हैं इसलिए उन्हें प्रोत्साहन दिये जाते रहने की जरूरत है। इस कार्यक्रम में कई दिव्यांग बच्चों के अलावा कॉलेज ऑफ एजुकेशन के प्राचार्य, शिक्षक, जिला कार्यक्रम अधिकारी, डॉक्टर, सीडीपीओ, पर्यवेक्षक तथा सामाजिक क्षेत्र से जुड़े लोग शामिल हुए। प्रभासाक्षी संवाददाता ने इस कार्यक्रम का जायजा लिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...