छत्तीसगढ़ के दो जिलों के पृथक-वास केंद्र में बच्ची, महिला की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   10:27
छत्तीसगढ़ के दो जिलों के पृथक-वास केंद्र में बच्ची, महिला की मौत

अधिकारियों ने बताया कि यादव की तबीयत खराब होने के बाद उसे रायपुर के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां से उसे 21 तारीख को पृथक-वास केंद्र लाया गया था। उन्होंने बताया कि यादव को देखरेख में रखा गया था लेकिन आज सुबह उसकी मौत हो गई। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए मैनपुर भेज दिया गया है।

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के दो जिलों में पृथक-वास केंद्र में डेढ़ साल की बच्ची और गर्भवती महिला की मौत हो गई है। छत्तीसगढ़ के अधिकारियों ने बताया कि राज्य के गरियाबंद जिले में गर्भवती महिला की तथा गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में एक बच्ची की मौत हो गई है। अधिकारियों ने बताया कि गरियाबंद जिले के धरनीगोड़ा गांव के पृथक-वास केंद्र में भगवती यादव (27) की मौत हो गई है। यादव प्रवासी मजदूर थी। उन्होंने बताया कि यादव इस महीने की 14 तारीख को अपने माता-पिता के साथ तेलंगाना से अपने गांव पहुंची थी। तब से वे सभी पृथक-वास केंद्र में रह रहे थे।

इसे भी पढ़ें: प्रवासी कामगारों को वापस लाने का काम दो-तीन दिन में समाप्त हो जाएगा: उत्तर प्रदेश सरकार

अधिकारियों ने बताया कि यादव की तबीयत खराब होने के बाद उसे रायपुर के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां से उसे 21 तारीख को पृथक-वास केंद्र लाया गया था। उन्होंने बताया कि यादव को देखरेख में रखा गया था लेकिन आज सुबह उसकी मौत हो गई। उसके शव को पोस्टमार्टम के लिए मैनपुर भेज दिया गया है। 

रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। अधिकारियों ने बताया कि एक अन्य घटना में गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले के टिकरकला गांव के पृथक-वास केंद्र में डेढ़ वर्षीय बालिका की मौत हो गई है। उन्होंने बताया कि बालिका के पिता पुरन सिंह प्रवासी मजदूर है तथा वह इस महीने की 17 तारीख को श्रमिक विशेष रेलगाड़ी से मध्यप्रदेश के भोपाल से छत्तीसगढ़ पहुंचा था। उसे पेंड्रा के पृथक-वास केंद्र में रखा गया था लेकिन वहां से 18 तारीख को वह अपने गांव भाग गया था।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र से विशेष ट्रेनों के जरिए करीब 10 लाख श्रमिकों को उनके गृह राज्यों में पहुंचाया गया

अधिकारियों ने बताया कि जब ग्रमीणों ने स्थानीय प्रशासन से शिकायत की तब पुरन सिंह को उसकी पत्नी और बेटी के साथ टिकरकला के पृथक-वास केंद्र में भेजा गया था। उन्होंने बताया कि बुधवार को बच्ची की मां उसे दूध पिलाने बाद नहाने के लिए चली गई। जब वह वापस आई तब बच्ची हिचकी ले रही थी तथा उसे सांस लेने में तकलीफ थी। अधिकारियों ने बताया कि इसके बाद महिला ने तत्काल इसकी जानकारी अपने पति और अन्य लोगों को दी तथा बच्ची को अस्पताल भेजा गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उन्होंने बताया कि चिकित्सकों ने बच्ची और उसकी मां का कोरोना वायरस संक्रमण की जांच के लिए नमूना ले लिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।