अवैध वसूली के खिलाफ पूर्व पार्षद एकता मंच ने किया बैठक

अवैध वसूली के खिलाफ पूर्व पार्षद एकता मंच ने किया बैठक
प्रतिरूप फोटो

बैठक को सम्बोधित करते हुए वसीक अहमद ने कहा कि, पुरे हिन्दुस्तान में कहीं भी किसी भी पार्क में सुबह 5 बजे से 9 बजे प्रातःकाल तक कोई भी शुल्क मार्निंग वाक पर नहीं लिया जाता है, जबकि गोरखपुर नगर निगम क्षेत्र पार्क,कार बाईक और साईकिल स्टैन्ड में जबर्दस्त वसूली कर रहा है।

गोरखपुर। पूर्व पार्षद एकता मंच के द्वारा आयोजित बैठक बहुत ही शानदार तथा शांतिपूर्ण माहौल मे सम्पन्न हुई।  बैठक की अध्यक्षता शिवाजी शुक्ल अध्यक्ष पुर्व पार्षद एकता मंच और संचालन प्रमुख महासचिव शशांक शेखर त्रिपाठी ने किया। बैठक को सम्बोधित करते हुए  वसीक अहमद ने कहा कि, पुरे हिन्दुस्तान में कहीं भी किसी भी पार्क में सुबह 5 बजे से 9 बजे प्रातःकाल तक कोई भी शुल्क  मार्निंग वाक पर नहीं लिया जाता है, जबकि गोरखपुर नगर निगम क्षेत्र पार्क,कार बाईक और साईकिल स्टैन्ड में जबर्दस्त वसूली कर रहा है। वहीं दूसरी तरफ मोहन अग्रवाल ने कहा कि शहर के विभिन्न चौराहों तथा सड़कों पर अवैध वसूली हो रही है, जिसपर प्रशासन का कोई भी हस्तक्षेप नहीं है।  

 

महासचिव ने कहा कि शाहपुर आवास विकास की स्थिति काफी जर्जर है। काली माता मंदिर की तरफ जाने वाली सड़कें और एकमात्र पार्क में कार्य हुए लगभग 25वर्ष हो गए और समय समय पर नगर निगम और सम्बंधित अधिकारियों को सूचित भी किया गया परंतु कोई भी कार्य नहीं हुआ। नवीउल्लाह अंसारी ने कहा कि त्योहारों का समय आने पर नगर निगम पुरे शहर मे टूटी फूटी सड़कों का निर्माण,ध्वस्त पथ प्रकाश व्यवस्था को ठीक कराये और जलजमाव वाले क्षेत्रों मे विशेष अभियान चलाकर छिड़काव और सफाई कराये, जिससे संक्रामक रोगों से निजात मिल सके।

 

अंत मे सर्व सम्मति से तय किया गया कि अतिशीघ्र गुरुवार के दिन दिनांक 30/9/21 को एक प्रतिनिधिमंडल मण्लायुक्त गोरखपुर से मिलकर एक ज्ञापन के माध्यम से समस्याओं से अवगत कराकर समाधान कराने की मांग करेगा। इस बैठक में मुख्य रूप से  शिवाजी शुक्ल अध्यक्ष, विन्ध्यवासिनी जायसवाल, प्रमुख महासचिव शशांक शेखर त्रिपाठी सहित आदि  लोग उपस्थित रहे।                              

                   





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।