पूर्व पार्षद एकता मंच ने गोरखपुर कमिश्नर को अवैध वसूली के खिलाफ सौंपा ज्ञापन

पूर्व पार्षद एकता मंच ने गोरखपुर कमिश्नर को अवैध वसूली के खिलाफ सौंपा ज्ञापन
प्रतिरूप फोटो

मंडलायुक्त रवि कुमार एन जी ने प्रतिनिधिमंडल की बातों को गंभीरता पूर्वक लेते हुए कहा कि, वरिष्ठ नागरिकों एवं बीमार लोगों के साथ वसूली के नाम पर किए जा रहे दुर्व्यवहार की जांच एवं अवैध वसूली करने वाले दोषियों के खिलाफ कार्रवाई तथा जल निकासी जैसी समस्याओं का समाधान अतिशीघ्र किया जाएगा।

गोरखपुर। सुबह वरिष्ठ नागरिकों के टहलने व पार्कों के नाम पर अवैध वसूली व सुरक्षा की मांग एवं गोरखपुर नगर निगम क्षेत्र में बारिश व ओलावृष्टि से हुए नुकसान को लेकर, पूर्व पार्षद एकता मंच का एक प्रतिनिधिमंडल मंच के अध्यक्ष शिवाजी शुक्ल के नेतृत्व में, गोरखपुर के मंडलायुक्त रवि कुमार एनजी से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपकर समस्याओं के समाधान की मांग की। मंडलायुक्त रवि कुमार एन जी ने प्रतिनिधिमंडल की बातों को गंभीरता पूर्वक लेते हुए कहा कि, वरिष्ठ नागरिकों एवं बीमार लोगों के साथ वसूली के नाम पर किए जा रहे दुर्व्यवहार की जांच एवं अवैध वसूली करने वाले दोषियों के खिलाफ कार्रवाई तथा जल निकासी जैसी समस्याओं का समाधान अतिशीघ्र किया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: राज्य में औषधीय पौधों और लेमन ग्रास की खेती को बढ़ावा दें : हेमंत सोरेन

ज्ञापन सौंपने के बाद हुई सभा को संबोधित करते हुए पूर्व पार्षद एकता मंच के अध्यक्ष शिवाजी शुक्ल ने कहा कि, गोरखपुर के समस्त पार्कों में नगर निगम, जीडीए लगभग लाल डिग्गी और तारामंडल जैसे पार्कों में टहलने निकले वरिष्ठ नागरिकों और बीमार लोगों से वसूली हो रही है। जबकि पूरे हिंदुस्तान में कहीं भी प्रातः काल 5 बजे से लेकर सुबह 9 तक कोई भी वसूली नहीं की जाती है। लेकिन मानक के विपरीत पार्कों के अंदर टहलने वाले वरिष्ठ नागरिकों और बीमार लोगों से धनादोहन किया जा रहा है, जो अनैतिक है। उन्होंने कहा कि पार्कों के अंदर मरम्मत के नाम पर ठेकेदार द्वारा जगहों पर अभी कार्य अधूरे छोड़े गये  हैं, जिससे टहलने वालों को असुविधाएं व दुर्घटनाएं जैसी घटनाएं हो रही हैं। पार्कों का तत्काल सुंदरी करण व मरम्मत कार्य कराया जाए। शुक्ल ने कहा कि स्टैंड के नाम पर जबरन पैसों की वसूली की जा रही है जिसे तत्काल रोक लगाते हुए वरिष्ठ नागरिकों के लिए छूट दी जाए। 

इसे भी पढ़ें: सिंघू, टिकरी प्रदर्शन स्थलों के आसपास के ग्रामीणों ने खट्टर को अपनी तकलीफें बतायीं

इस मौके पर पूर्व पार्षद एकता मंच के प्रमुख महासचिव शशांक शेखर त्रिपाठी ने कहा कि समूचे महानगर में पार्किंग के नाम पर हर चौराहे पर अवैध वसूली आम जनता से हो रही है। आम जनता इससे काफी परेशान है। उन्होंने कहा कि साइकिल स्टैंड व पार्किंग के नाम पर आम जनता का उत्पीड़न किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि  तत्काल प्रशासन, नगर निगम, जीडीए अपने कब्जे में लेकर इनकी जांच करा कर एक से दो रुपए तक गाड़ियों से शुल्क वसूला जाए। त्रिपाठी ने कहा कि सभी पार्कों पर, साइकिल स्टैंड पर सीसीटीवी कैमरे की व्यवस्था प्रशासन एवं स्थानीय प्रशासन के साइकिल स्टैंड के ठेकेदारों से कराई जाए। किसी भी पार्क में पेयजल, हैंड पाइप तक की व्यवस्था नहीं है, इसलिए इसकी व्यवस्था जनहित में देखते हुए तत्काल प्रभाव से कराई जाए। 

पूर्व पार्षद एकता मंच के महासचिव जावेद अहमद खान, नीलम दुबे, नबीउल्लाह अंसारी एवं मुन्नी लाल निषाद ने कहा कि, वार्ड नंबर 34 शाहपुर आवास विकास कॉलोनी में पूर्व पार्षद नीलम दुबे के निवास के सामने काली मंदिर एवं इससे सटे हुए पार्क के लोगों के ठहरने एवं सार्वजनिक कार्यक्रम के लिए पास जो नगर निगम द्वारा संचालित होता है लगभग 25 वर्षों से इस क्षेत्र में कोई भी पार्क एवं सड़क नाली से संबंधित कोई कार्य नहीं हुआ है। 

इस मौके पर विजय राज जायसवाल, अहमद कमाल गुड्डू, नीलम दुबे, विंध्यवासिनी जायसवाल, इंदिरा तिवारी, मोहम्मद शाहिद अंसारी, वसीक अहमद, राजेंद्र कुमार एवं विनोद अग्रहरि ने कहा कि गोरखपुर मेडिकल कॉलेज रोड पर नालों को समुचित जल निकासी की व्यवस्था ठीक कराई जाए। जिससे कॉलोनियों का जल निकासी व्यवस्थित हो सके। अतिवृष्टि से मेडिकल रोड पर स्थापित सभी कॉलोनी में जलजमाव से बड़ा नुकसान हो रहा है। नालों का टेक्निकल टीम से कार्य योजना तैयार कराई जाए। बरसात में जलजमाव से जनता को हुई क्षति व जनधन की हानि की पूर्ति की जाए। त्योहारों को मद्देनजर नगर निगम क्षेत्र में वर्षा से नष्ट हुई सड़कों की मरम्मत कराई जाए। पथ प्रकाश को तत्काल ठीक कराया जाए।

ज्ञापन सौंपने वालों में प्रमुख रूप से शिवाजी शुक्ल, विन्ध्यवासिनी जायसवाल, शशांक शेखर त्रिपाठी, नीलम दुबे, जावेद अहमद खान सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।