गोरखपुर समाचार: बांसगांव लोकसभा के सांसद ने दिए कोविड इलाज लिए पचास लाख रूपए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2021   16:47
गोरखपुर समाचार: बांसगांव लोकसभा के सांसद ने दिए कोविड इलाज लिए पचास लाख रूपए

बीआरडी मेडिकल कॉलेज का पीआईसीयू (पीडियाट्रिक आईसीयू) और एनआईसीयू (नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट) वार्ड का मॉडल पूरे प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों और जिला अस्पतालों में लागू होगा।

1- गोरखपुर:- बीआरडी मेडिकल कॉलेज का पीआईसीयू (पीडियाट्रिक आईसीयू) और एनआईसीयू (नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट) वार्ड का मॉडल पूरे प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों और जिला अस्पतालों में लागू होगा। कोरोना की तीसरी लहर से पहले डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की टीम ने कॉलेज के पीआईसीयू और एनआईसीयू वार्ड का अध्ययन करते हुए इसे प्रदेश का सबसे उत्तम और आधुनिक बताया है। शासन की पहल पर डॉ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की पांच सदस्यीय टीम वार्ड का अध्ययन करने सोमवार को बीआरडी पहुंची थी। टीम में लोहिया संस्थान की निदेशक डॉ. सोनिया नित्यानंद, एनेस्थीसिया के विभागाध्यक्ष डॉ. दीपक मालविया, बाल रोग विभागाध्यक्ष डॉ. दीप्ती अग्रवाल, बाल रोग के सह आचार्य डॉ. केके यादव, बाल रोग सर्जन व कोविड अस्पताल के अधीक्षक डॉ. श्रीकेष सिंह शामिल थे। टीम ने पीआईसीयू और एनआईसीयू वार्ड की पूरी व्यवस्था देखते हुए डॉक्टरों की जानकारी ली। टीम ने वार्डों को देखकर संतुष्टि जताते हुए इसे प्रदेश का सबसे शानदार वार्ड भी बताया।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस लगातार बदलते रहते हैं अपना रूप, क्या वैक्सीन होगा प्रभावी? 

इस पर बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि शासन स्तर से राम मनोहर लोहिया की टीम कॉलेज के पीआईसीयू और एनआईसीयू वार्ड देखने आई थी। पूरे प्रदेश में सबसे शानदार एनआईसीयू और पीआईसीयू बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हैं। टीम ने सभी वार्डों को देखकर उनका अध्ययन किया है। इसी तरह के पीआईसीयू और एनआईसीयू वार्ड कोरोना की तीसरी लहर से पहले प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में बनाए जाएंगे। साथ ही प्रदेश के सभी जिलों में भी यही व्यवस्था लागू होगी। बताया कि मेडिकल कॉलेज में बाल रोग विशेषज्ञों की कोई कमी नहीं है। समृद्ध बाल रोग विशेषज्ञ कॉलेज में हैं। इस दौरान डॉ. महिम मित्तल, डॉ. पवन प्रधान, बाल रोग विभागाध्यक्ष डॉ. अनीता मेहता आदि मौजूद रहे।

इसे भी पढ़ें: ऋचा चड्ढा की नई पहल, इंस्टाग्राम पेज 'द किंडरी' के ज़रिये हर रोज गुमनाम नायकों को यूं करेंगी सेलिब्रेट  

2- गोरखपुर:-  शासन के निर्देश पर डीएम के. विजयेंद्र पांडियन ने जिले के 1294 पंचायतों में से 859 के गठन के संबंध में सोमवार को अधिसूचना जारी कर दिया। इसी के साथ इन पंचायतों में गांव की सरकार वजूद में आ गई। इनके प्रधान मंगलवार को शपथ भी ग्रहण कर लेंगे। संबंधित बीडीओ या उनका पद खाली रहने की दशा में तहसीलदार या नायब तहसीलदार ब्लाकवार ऑनलाइन नवनिर्वाचित प्रधानों को शपथ दिलाएंगे।

 

वहीं निर्वाचित ग्राम पंचायत सदस्य की दो तिहाई संख्या पूरी नहीं हो पाने की वजह से जिले की 435 पंचायतों का गठन नहीं हो पाया। यहां के प्रधान शपथ भी नहीं ले सकेंगे। कुछ दिनों बाद यहां ग्राम पंचायत सदस्य पद के उपचुनाव होंगे। उसमें संख्या पूरी होने पर बाकी बची इन पंचायतों का गठन होगा। तब तक वहां प्रशासक ही गांव के विकास की जिम्मेदारी निभाएंगे। शपथ ग्रहण के साथ ही प्रधान अपना डोंगल भी बनाएंगे और विभाग उसे एक्टिव कर देगा। डोंगल एक्टिव होने के साथ ही पंचायत से प्रशासक का दायित्व समाप्त हो जाएगा और वित्तीय अधिकार प्रधान के पास आ जाएगा। शपथ कार्यक्रम दोपहर 12 बजे से ऑनलाइन दिलाई जाएगी।

एक बार में 100 लोगों को शपथ दिलाने की तैयारी है। यदि लैपटाप कनेक्ट नहीं हुआ तो मोबाइल पर भी लिंक दिया जाएगा। यदि कोई प्रधान या सदस्य शपथ लेने वाले स्थान तक नहीं आ पाएगा तो घर से ही मोबाइल के जरिए शपथ ले सकता है। शपथ लेने के बाद प्रपत्र पर हस्ताक्षर करने होंगे। शपथ लेने के साथ ही नवनिर्वाचित प्रधानों के सामने सबसे बड़ी जिम्मेदारी अपनी पंचायत को कोरोना से बचाना होगा।

पंचायतों के गठन के बाद 27 मई को ग्राम सभा की पहली बैठक होगी। पहले से तैयार कार्ययोजना पर चर्चा होने के साथ ही ग्राम सभा यदि कोई नई योजना पर मोहर लगाती है तो उसे भी उसमें जोड़ा जाएगा। अभी पंचायतों में सफाई व सैनिटाइजेशन का काम व उसकी निगरानी पंचायतीराज विभाग कर रहा है। इसी तरह निगरानी समिति का अध्यक्ष प्रशासक यानी सचिव हैं। मगर मंगलवार को शपथ लेते ही प्रधान, अपनी निगरानी में पंचायतों में सफाई और सैनिटाइजेशन का काम कराएंगे। इसी तरह निगरानी समिति के अध्यक्ष की जिम्मेदारी भी उन्हें ही निभानी होगी। शासन की तरफ से शुरू की गई योजना के तहत प्रधान जरूरतमंदों को अंत्येष्टि के लिए पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता भी देंगे।

डीपीआरओ हिमांशु शेखर ठाकुर ने कहा कि शपथ ग्रहण की तैयारियां पूरी हो गई हैं। 859 ग्राम पंचायतों में 25 मई को दोपहर 12 बजे से ऑनलाइन शपथ दिलाई जाएगी। बाकी के 435 गांवों में उपचुनाव के बाद ही पंचायतों का गठन हो सकेगा। 27 को ग्राम सभा की पहली बैठक होगी। प्रधानों को अब सफाई और सैनिटाइजेशन के काम की निगरानी खुद भी करनी होगी। साथ ही वह निगरानी समिति के अध्यक्ष भी होंगे। 

3- गोरखपुर:-  कोतवाली थाना क्षेत्र के बेनीगंज चौकी अंतर्गत  पुर्दिलपुर  काली मंदिर के पास में सोमवार की सुबह एक महिला की लाश शौचालय में फंदे  से लटकती हुई मिली। सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक नगर  सोनम कुमार, क्षेत्राधिकारी कोतवाली विमल कुमार सिंह और कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच  शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फिलहाल मौत का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। लेकिन इस मामले में हत्या व आत्महत्या के बीच में पुलिस उलझी हुई है पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा किन कारणों से उक्त महिला की लाश शौचालय के अंदर पायी गयी या पहुचाया गया। पुलिस हत्या व आत्महत्या दोनो बिंदुओं पर जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार शहर के कोतवाली इलाके के पुर्दिलपुर सिंह बिरियानी के पीछे विजया देवी पत्नी रमेश चंद्र जायसवाल का मकान है। विजया ने अपने घर के बाहर एक शौचालय बनवा रखा है। जिसे आसपास के लोग भी उपयोग करते हैं। सोमवार की सुबह शौचालय का दरवाजा अंदर से बंद था। पहले लोगों को लगा कि शायद कोई गया होगा, लेकिन काफी देर बीत जाने पर सुबह करीब 10.30 बजे तक दरवाजा न खुलने पर शक हुआ। आवाज लगाने पर भी दरवाजा नहीं खुला तो लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़कर देखा तो पुलिस के होश उड़ गए। अंदर फंदे से लटकी एक 35 वर्षीय महिला की लाश मिली। महिला की पहचान महराजगंज जिले के निचलौल निवासी राजेंद्र की पत्नी काजल 35 के रुप में हुई। बताया जा रहा है कि महिला यहां किराए का कमरा लेकर रहती थी और आसपास के घरों में चौका—बर्तन करती थी। वहीं, काजल की एक बहन बबीता पत्नी राजकपूर भी शहर के शाहपुर में रहकर चौका बर्तन का काम करती है। प्रत्यक्षदर्शी महिला के साथ कोई अनहोनी होने की आशंका जता रहे है। पुलिस मामले की पड़ताल कर रही है। इंस्पेक्टर कोतवाली कल्याण सिंह सागर ने बताया कि मामले की पड़ताल की जा रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत का कारण पता चल सकेगा। 

4- सरदारनगर विकास खण्ड के ग्रामसभा गौनर में बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान पहुंच कर सेनिटाइजर,कोविड जांच,दवा,खाद्य सामग्री की जांच और समीक्षा किए। इस दौरान उप जिला अधिकारी चौरा चौरा पवन कुमार ने बताया कि इस ग्रामसभा में कुल 47 जिसमें कोविड से 7-8 लोगों की मृत्यु हुई है।इस अवसर पर कमलेश पासवान ने कहा कि मैं बांसगांव लोकसभा के अन्तर्गत पांचों विधानसभा क्षेत्र को कोविड के इलाज के लिये दस-दस लाख रूपए सांसद निधि से दे रहा हु जिससे पांचों विधानसभा के ग्रामीणों का समुचित इलाज हो सके। और कहा कि गौनर ग्रामसभा के निवासियों का इलाज बिशेष कैंप के माध्यम से किया जाएगा। इसके पूर्व सांसद कमलेश पासवान समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चौरी चौरा में पहुंच कर प्रस्तावित तीस बेड का लेबल टू,तीन बेड का पीडियाट्रिक आईसीयू वार्ड और वैक्सीनेशन का निरीक्षण कर दिए आवश्यक निर्देश। कमलेश पासवान ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चौरी चौरा के चिकित्सा अधीक्षक डॉ सर्वजीत प्रसाद से कहा कि कोविड लेवल टू और आईसीयू वार्ड को एक सप्ताह के अंदर बना कर कम्पलीट कर लें। आपको इसे बनाने में कोई दिक्कत आती है तो आप मुझे बताये । इस समस्या का समाधान कर दिया जाएगा। इस अवसर पर तहसीलदार वीरेंद्र गुप्ता,  चिकित्साधिकारी डॉ रवि आनंद,आयुष चिकित्साधिकारी डॉ आर० के० सिंह बाल रोग विशेषज्ञ डॉ शिशिर राय, डॉ क्षत्रपाल यादव, फार्मासिस्ट वी०के० सिंह,आरबीएसके के चिकित्साधिकारी डॉ हर्ष पांडेय, डॉ जया सिंह,नेत्र परीक्षक डॉ अमित वर्नवाल,चीफ फार्मासिस्ट वी०के० सिंह, फार्मासिस्ट राजेन्द्र गुप्ता, स्टाप नर्स, प्रभारी चौरी चौरा थाना प्रभारी संतोष कुमार अवस्थी, निवर्तमान ब्लाक प्रमुख सुनील पासवान, भाजपा पिछड़ा क्षेत्रीय उपाध्यक्ष दिपक जयसवाल, भाजपा मंडल अध्यक्ष योगेंद्र जयसवाल, निवर्तमान जिला पंचायत सदस्य राजेन्द्र गुप्ता, चेयरमैन प्रतिनिधि जे०पी०गुप्ता, राजकुमार गुप्ता, ग्राम प्रधान कैलाश निषाद, सहायक विकास अधिकारी रामनगीना यादव, ग्राम विकास अधिकारी सचिन्द्र राव, एनजीओ सेवा भारती के योगेश पांडेय, पूर्व जिला पंचायत सदस्य रामबृक्ष यादव,अंजित पासवान, मीडिया प्रभारी संतोष श्रीवास्तव सहित, निगरानी समिति के कार्यकर्ता, भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।