कृषक आंदोलन में मरने वाले किसानों को शहीद घोषित करे सरकार : राष्ट्रीय लोक दल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 25, 2021   17:57
कृषक आंदोलन में मरने वाले किसानों को शहीद घोषित करे सरकार : राष्ट्रीय लोक दल

कृषक आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों को शहीद का दर्जा दिये जाने की मांग करते हुये राष्ट्रीय लोक दल ने दिवंगत किसानों के परिवार को भरण पोषण के लिए सरकार से 50 लाख रुपये देने के अलावा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी तथा उनके बच्चों के लिये मुफ्त शिक्षा की व्यवस्था करने का आग्रह किया है।

मेरठ। कृषक आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों को शहीद का दर्जा दिये जाने की मांग करते हुये राष्ट्रीय लोक दल ने दिवंगत किसानों के परिवार को भरण पोषण के लिए सरकार से 50 लाख रुपये देने के अलावा परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी तथा उनके बच्चों के लिये मुफ्त शिक्षा की व्यवस्था करने का आग्रह किया है। राष्ट्रीय लोक दल के मीडिया संयोजक सुरेंद्र शर्मा ने कहा, ‘‘देश के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी ने जय जवान जय किसान का नारा दिया था,उन्होंने देश के किसानों और जवानों को एक ही समान समझा था हमारे देश का जवान फौज में भर्ती होकर इस पूरे मुल्क की हिफाजत करता है तथा हमारा किसान भाई खेती किसानी में काम करते हुए हम सब के लिए खाद्यान्न मुहैया कराते हैं।’’

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में भाजपा को सत्ता में आने का एक और अवसर मिलेगा : देवेंद्र फडणवीस

शर्मा ने कहा कि किसान देश की आर्थिक स्थिति की भी हिफाजत करता है और इसलिए जिस प्रकार एक जवान की शहादत के बाद उसे शहीद घोषित करते हुए उसके परिवार को पेंशन एवं अन्य सभी सुविधाएं दी जाती हैं उसी प्रकार किसान आंदोलन में शहीद हुए किसानों को भी शहीद घोषित करते हुए सभी सुविधाएं सरकार उन्हें प्रदान करें ताकि हमारे अन्नदाता भी अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर सकें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...