सरकार की उपलब्धि डींग हांकना और जुमलेबाजीः कांग्रेस

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने कहा कि पिछले तीन साल में इस सरकार की उपलब्धियां ‘‘डींग हांकना, जुमलेबाजी करना और बढ़-चढ़ कर बोलना’’ रहा है तथा इसलिए बदलाव की आवश्यकता है।

कांग्रेस ने आज देश के आर्थिक एवं सामाजिक मुद्दे पर निराशाजनक भविष्य की आशंका जताते हुए आरोप लगाया कि राजग सरकार के तहत संघर्ष जैसी स्थिति बनने के कगार पर है। कांग्रेस ने सरकार की रोजगार रणनीति के बारे में एक श्वेत पत्र की भी मांग की। भाजपा नीत राजग सरकार के तीन वर्ष पूरे होने पर सीधा हमला बोलते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ ने कहा कि पिछले तीन साल में इस सरकार की उपलब्धियां ‘‘डींग हांकना, जुमलेबाजी करना और बढ़-चढ़ कर बोलना’’ रहा है तथा इसलिए बदलाव की आवश्यकता है।

उन्होंने संवाददातओं से कहा, ‘‘इस देश का भविष्य आर्थिक दृष्टिकोण से और सामाजिक दृष्टिकोण से बहुत धूमिल दिख रहा है। देश में इससे पहले कभी ऐसे हालात नहीं रहे। देश संघर्ष की स्थिति में पहुंचने के कगार पर है।’’ पूर्व संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ ने कहा कि भाजपा सरकार के पिछले तीन साल के कार्यकाल की पहचान ‘‘मीडिया प्रबंधन, प्रबंधन दक्षता और नामों का संक्षेपीकरण’’ रही है। उन्होंने लोगों से राजनीति में बदलाव करने को कहा। उन्होंने ध्यान दिलाया कि देश का मतदाता बहुत समझदार है। उन्होंने कहा, ‘‘भारत को एक व्यापक राजनीतिक बदलाव की जरूरत है। राजनीति में यह बदलाव न केवल आज की राजनीति बल्कि कल की राजनीति में भी झलकेगा।’’ नौकरियों के मोर्चे पर सरकार की विफलता का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हम मांग करते हैं कि सरकार अपनी रणनीति पर एक श्वेत पत्र लाये।’’

कमलनाथ ने कहा कि लोग भाषण नहीं सुनना चाहते बल्कि पिछले तीन साल के वास्तविक आंकड़ों के आधार पर सरकार की रोजगार रणनीति जानना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आईटी क्षेत्र रोजगारहीनता का सामना कर रहा है तथा इससे न केवल आर्थिक मुद्दे होंगे बल्कि बड़े स्तर पर सामाजिक मुद्दे भी होंगे। कांग्रेस नेता ने कहा कि 2015 में केवल 1.35 लाख नौकरियां सृजित की गयी जबकि 2028 तक देश को 34 करोड़ रोजगार की आवश्यकता पड़ेगी। उन्होंने कहा कि जुमलों से नौकरी कैसे पैदा होगी। प्रधानमंत्री ने दो करोड़ रोजगार का वादा किया था किन्तु क्या नतीजा निकला। कमलनाथ ने कहा कि रोजगार 15 साल के सबसे निचले स्तर पर है तथा भाजपा ‘‘मोदी फेस्ट’’ पर 200 करोड़ रूपये खर्च कर रही है। उन्होंने सवाल किया, ‘‘पिछले तीन साल आकांक्षाओं को कुचला गया एवं देश के साथ धोखा किया गया। भाजपा सरकार ‘‘मोदी फेस्ट’’ मना रही है, क्या यह लोगों का जश्न है। क्या किसान एवं युवा जश्न मना रहे हैं। क्या उद्योग जश्न मना रहे हैं।’’

विभिन्न मोर्चों पर देश की धूमिल तस्वीर पेश करते हुए उन्होंने कहा कि 7.2 प्रतिशत जीडीपी विकास का बड़ा दावा रोजगार या संपदा सृजन नहीं कर रहा है। उन्होंने सवाल किया कि आखिर इस विकास का फायदा क्या है। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि एक दूसरे को लाभ पहुंचाने वाले उद्योगपति के ऋण माफ किये जा रहे हैं किन्तु ऋण से घिरे किसानों को इस सरकार से कोई मदद नहीं मिल रही। उन्होंने दावा कि फसल बीमा योजना से किसानों को लाभ नहीं मिला है तथा इसके नियम इतने जटिल हैं कि केवल बीमा कंपनियां ही लाभान्वित हो रही हैं। कमलनाथ ने कहा कि बीमा कंपनियों ने 17815 करोड़ रूपये का प्रीमियम एकत्र किये किन्तु किसानों को मात्र 6808 करोड़ रूपये दिये। इस प्रकार बीमा कंपनियों ने 10376 करोड़ रूपये का शुद्ध मुनाफा कमाया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़