तमिलनाडु सरकार ने पीएम मोदी को पत्र लिख केंद्र से कोरोना वायरस के 20 लाख टीके मांगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2021   15:33
तमिलनाडु सरकार ने  पीएम मोदी को पत्र लिख केंद्र से कोरोना वायरस के 20 लाख टीके मांगे

तमिलनाडु सरकार ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से कोविड टीकों की 20 लाख खुराकों की आपूर्ति सुनिश्चित करने की अपील की ताकि टीकाकरण में बाधा न आए और कहा कि वह कोविड-19 इलाज में इस्तेमाल होने वाली रेमडेसिविर की आपूर्ति पर किसी तरह की पाबंदी के खिलाफ हैं।

चेन्नई। तमिलनाडु सरकार ने शुक्रवार को केंद्र सरकार से कोविड टीकों की 20 लाख खुराकों की आपूर्ति सुनिश्चित करने की अपील की ताकि टीकाकरण में बाधा न आए और कहा कि वह कोविड-19 इलाज में इस्तेमाल होने वाली रेमडेसिविर की आपूर्ति पर किसी तरह की पाबंदी के खिलाफ हैं। मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि यहां पास में एकीकृत टीका परिसर तैयार किया गया है और अपील की कि इसे क्रियाशील बना कर कोविड टीकों के उत्पादन को बढ़ाने की जरूरत है।

इसे भी पढ़ें: वाराणसी में तेजी से स्वस्थ हो रहे कोरोना संक्रमित लोग, रिकवरी रेट में आया चार गुना सुधार

मोदी को लिखे पत्र में, उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय और “कुछ राज्य नियामकों” द्वारा निर्देश जारी कर कुछ राज्यों के व्यक्तिगत उत्पादकों द्वारा आपूर्ति को प्राथमिकता देने और रेमडेसिविर की ब्रिकी को केवल उसी राज्य में करने के लिए निर्देश दिया गया है जहां उसका उत्पादन होता है। पलानीस्वामी ने कहा, “यह जरूरत वाले स्थानों पर ऐसी महत्त्वपूर्ण जीवनरक्षक दवाओं की उपलब्धता के लिहाज से बहुत नुकसानदेह है। इस चरण में, व्यक्तिगत राज्यों द्वारा किसी भी तरह के प्रतिबंधात्मक आदेशों पर सख्ती से रोक लगाकर रेमडेसिविर की आसानी से उपलब्धता सुनिश्चित होनी चाहिए।”

इसे भी पढ़ें: पी चिदंबरम ने कहा- टीकों के लिए कई कीमत के निर्णय को अस्वीकार करें राज्य

मुख्यमंत्री ने कहा, “मैं केंद्र सरकार से इस मुद्दे को उन राज्यों के समक्ष उठाने का आग्रह करता हूं जहां कंपनियों के उत्पादन केंद्र स्थित हैं।” इसके अलावा उन्होंने कोविड टीके की 20 लाख खुराकें पहले ही भेजने की भी अपील की ताकि टीकाकरण अभियान प्रभावित न हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।