बांग्लादेश में हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा की जांच के लिये सांसदों का दल भेजा जाए : विहिप

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 21, 2021   07:02
बांग्लादेश में हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा की जांच के लिये सांसदों का दल भेजा जाए : विहिप
प्रतिरूप फोटो

विहिप के बयान में संयुक्त महामंत्री डा. सुरेन्द्र जैन के हवाले से कहा गया है कि ‘‘केंद्र सरकार को सांसदों का एक जांच दल बांग्लादेश में भेजना चाहिए जो बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हमलों की पूर्ण जांच करके उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक करें।’’

नयी दिल्ली| विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) ने बुधवार को मांग की कि केंद्र सरकार को सांसदों का एक जांच दल बांग्लादेश भेजा जाना चाहिए जो बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा की पूर्ण जांच करे और उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक की जाए।

विहिप ने इस बात पर जोर दिया कि भारत सरकार को बांग्लादेश में हिन्दुओं के खिलाफ हिंसा के विषय को सख्ती से उठाना चाहिए और प्रधानमंत्री शेख हसीना के नेतृत्व वाली सरकार पर इस बात के लिए दबाव डालना चाहिए कि वहां हिंदुओं का दमन नहीं होने दें।

इसे भी पढ़ें: विहिप ने बांग्लादेश में मंदिरों पर हमलों की निंदा की, कार्रवाई की मांग

विहिप के बयान में संयुक्त महामंत्री डा. सुरेन्द्र जैन के हवाले से कहा गया है कि ‘‘केंद्र सरकार को सांसदों का एक जांच दल बांग्लादेश में भेजना चाहिए जो बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हमलों की पूर्ण जांच करके उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक करें।’’

डा. जैन ने बांग्लादेश उच्चायोग के सामने विहिप के आक्रोश प्रदर्शन को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि बांग्लादेश में हिंदुओं पर हमले सीमा को पार गए गए हैं और भारत सरकार अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हट सकती।

उन्होंने कहा कि बांग्लादेश सरकार को भी अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए पूर्ण निष्पक्षता के साथ सभी नागरिकों के जान माल की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत सरकार जितनी मजबूती से अफगानिस्तान और पाकिस्तान में हिंदुओं पर होने वाले अत्याचारों को उठाती है, उतनी मजबूती से बांग्लादेश में होने वाले ऐसे ही मामलों में नहीं खड़ी होती।

 

इसे भी पढ़ें: श्यामा प्रसाद मुखर्जी वास्तविकता से कम आंके गये विद्वान थे : जितेंद्र सिंह






Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।