होटल किराये पर जीएसटी कर में कटौती पर्यटन क्षेत्र के लिए दिवाली का तोहफा: मंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2019   17:15
होटल किराये पर जीएसटी कर में कटौती पर्यटन क्षेत्र के लिए दिवाली का तोहफा: मंत्री

सरकार का निर्णय हमारी उम्मीद से बेहतर है। यह पर्यटन उद्योग के लिए दीपावली का उपहार है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ इसके अलावा कारपोरेट कर में कटौती से भी मदद मिलेगी।’’ पर्यटन उद्योग को राहत देने और रोजगार सृजन के लिए 1,000 रुपये प्रति रात्रि के किराये वाले कमरों पर जीएसटी कर दर शून्य कर दी गयी है।

नयी दिल्ली। पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल ने होटल किराये पर माल एवं सेवाकर (जीएसटी) में और कारपोरेट कर में कटौती को होटल उद्योग के लिए सरकार की ओर से दिवाली का तोहफा बताया। पटेल यहां ‘इंडिया टूरिज्म मार्ट’ को संबोधित कर रहे थे। जीएसटी परिषद ने शुक्रवार को उद्योग जगत की चिंताओं को देखते हुए होटल किरायों और कुछ सामान पर जीएसटी कर की दर घटाने का निर्णय किया था। इसके साथ ही वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कारपोरेट कर कम करने की भी घोषणा की है। पटेल ने कहा, ‘‘ मंत्रालय ने पर्यटन क्षेत्र के लिए जीएसटी की कर दर में बदलाव करने और कर दर को कम करने का अनुरोध किया था।

इसे भी पढ़ें: वित्त आयोग का जीएसटी परिषद को एक या दो दरें रखने का सुझाव

सरकार का निर्णय हमारी उम्मीद से बेहतर है। यह पर्यटन उद्योग के लिए दीपावली का उपहार है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ इसके अलावा कारपोरेट कर में कटौती से भी मदद मिलेगी।’’ पर्यटन उद्योग को राहत देने और रोजगार सृजन के लिए 1,000 रुपये प्रति रात्रि के किराये वाले कमरों पर जीएसटी कर दर शून्य कर दी गयी है। वहीं 1,001 रुपये से 7,500 रुपये तक किराये वाले कमरों पर कर की दर 12 प्रतिशत होगी। पहले यह दर 18 प्रतिशत थी। इससे ऊपर वाले किराये वाले कमरों पर भी जीएसटी कर दर को मौजूदा 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत कर दिया गया है। इंडिया टूरिज्म मार्ट में 51 देशों के 240 प्रतिनिधि शामिल हुए हैं। इसमें अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, इंडोनेशिया, मलेशिया, मेक्सिको, न्यूजीलैंड, नॉर्वे, फिलीपींस, पोलैंड, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...