गुजरात : कांग्रेस विधायकों ने ‘शहीद’ किसानों के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा

Gujarat
गुजरात विधानसभा में कांग्रेस विधायको ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर गत कई महीने से जारी प्रदर्शन के दौरान ‘शहीद’ हुए 250 किसानों के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा।

गांधीनगर। गुजरात विधानसभा में कांग्रेस विधायको ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर गत कई महीने से जारी प्रदर्शन के दौरान ‘शहीद’ हुए 250 किसानों के सम्मान में दो मिनट का मौन रखा। हालांकि, भाजपा विधायकों ने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया और मंत्री ने आरोप लगाया कि विपक्षी पार्टी भगत सिंह और अन्य की शहादत का राजनीतिकरण कर रही है। सदन में कृषि विभाग की वित्तीय मांगों पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष परेश धनानी अचानक ‘शहीदी दिवस’ के मौके पर स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव पर बोलने लगे।

इसे भी पढ़ें: पुडुचेरी में कोरोना वायरस संक्रमण के 87 नए मामले, कुल मामले बढ़कर हुए 40,520

धनानी ने कहा कि भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को दो मिनट मौन रखकर श्रद्धांजलि दी जानी चाहिए। इसके बाद उन्होंने प्रस्ताव किया कि सदन को केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर प्रदर्शन के दौरान ‘‘शहीद हुए करीब 250 किसानों को भी श्रद्धांजलि देनी चाहिए। धनानी ने कहा, ‘‘तीन स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत की आजादी के लिए अपनी जान दी, और इन 250 किसानों ने कृषि क्षेत्र को बचाने के लिए अपनी जान दी। हम सभी को स्वतंत्रता सेनानियों के साथ-साथ 250 किसानों को भी दो मिनट मौन रखकर श्रद्धांजलि देनी चाहिए।’’

इसे भी पढ़ें: योगी आदित्यनाथ ने कहा, असम में बार-बार आने वाली बाढ़ का समाधान करेगी भाजपा

कांग्रेस की मांग पर आपत्ति जताते हुए उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि विपक्षी पार्टी राजनीतिक लाभ के लिए जानबूझकर भगत सिंह की शहादत को प्रदर्शनकारी किसानों की मौत से मिला रही है। उन्होंने कहा, ‘‘क्या कांग्रेस ने उन 19 किसानों को श्रद्धांजलि दी थी, जिनकी मौत 1987 में गुजरात के गांधीनगर में उसके शासन के दौरान पुलिस की गोली लगने से हुई थी।’’ उल्लेखनीय है कि यह गोलीबारी तब हुई थी जब किसान अपने उत्पाद के उचित मूल्य की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। पटेल ने कहा, ‘‘आप की मांग से उन तीन स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान हुआ है। कांग्रेस पहले यह बताए कि क्यों उसके शासन में 19 किसानों को मारा गया।’’ पटेल के बयान को नजरअंदाज करते हुए कांग्रेस विधायकों ने सदन में खड़े होकर दो मिनट का मौन रखा जबकि भाजपा सदस्य इसमें शामिल नहीं हुए एवं पटेल ने अपना भाषण जारी रखा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़