हरीश रावत मेरे बड़े भाई, 100 बार माफी मांगने को तैयार: हरक सिंह रावत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 18, 2022   21:53
हरीश रावत मेरे बड़े भाई, 100 बार माफी मांगने को तैयार: हरक सिंह रावत

पिछले विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले विजय बहुगुणा और हरक सिंह रावत समेत कई कांग्रेस नेताओं ने बगावत कर दी थी जिससे तत्कालीन हरीश रावत सरकार संकट में आ गई थी। फिर विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा।

नयी दिल्ली/देहरादून। भाजपा से निष्कासित होने के बाद कांग्रेस में वापसी का प्रयास कर रहे उत्तराखंड के पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत ने मंगलवार को कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत उनके बड़े भाई की तरह हैं और वह उनसे 100 बार माफी मांगने के लिए तैयार हैं। पौड़ी गढ़वाल जिले की कोटद्वार विधानसभा सीट से विधायक हरक सिंह रावत पहले कई वर्षों तक कांग्रेस में थे। पिछले विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले विजय बहुगुणा और हरक सिंह रावत समेत कई कांग्रेस नेताओं ने बगावत कर दी थी जिससे तत्कालीन हरीश रावत सरकार संकट में आ गई थी। फिर विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। 

इसे भी पढ़ें: अपर्णा यादव को टिकट देने के मूड में नहीं हैं अखिलेश यादव ! भाजपा को दी परिवार से दूर रहने की सलाह

हरक सिहं रावत ने 2016 के घटनाक्रम का हवाला देते हुए संवाददाताओं से कहा, ‘‘वह (हरीश रावत) मेरे बड़े भाई हैं। मैं उनसे 100 बार माफी मांगने के लिए तैयार हूं। यहां तक कि उत्तराखंड के विकास, युवाओं और उनके हितों के लिए एक लाख बार भी माफी मांग सकता हूं। मुझमें कोई अहंकार नहीं है।’’ उन्होंने यह भी कहा कि वह उत्तराखंड के हितों की रक्षा के लिए घुटने के बल भी बैठने को भी तैयार हैं। हरीश रावत के रुख के बारे में पूछे जाने पर हरक सिंह ने कहा कि 2016 में परिस्थितियां अलग थीं, जब उन्हें बगावत करनी पड़ी थी। उनके अनुसार, उत्तराखंड में धारचूला से मंगलौर तक या पांडुकेश्वर से जसपुर तक हरीश रावत के कद का कोई मेल नहीं है। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि हरीश रावत हरक सिंह रावत को पार्टी में वापस लेने के पक्ष में नहीं हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...