झारखंड सरकार ने कोरोना 'सहायता' मोबाइल एप से एक लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों के खाते में पैसे ट्रांसफर किएं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   07:40
झारखंड सरकार ने कोरोना 'सहायता' मोबाइल एप से एक लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों के खाते में पैसे ट्रांसफर किएं

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से देश के विभिन्न राज्यों में झारखंड के मजदूर बंधु बड़ी संख्या में फंसे हुए हैं। लॉकडाउन के शुरुआती चरण से ही राज्य सरकार ने देश के विभिन्न राज्यों के सरकार के पदाधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर प्रवासी मजदूरों के लिए राशन अथवा खाद्यान्न उपलब्ध कराने का काम किया था।

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना मोबाइल ऐप के माध्यम से एक लाख 11 हजार 568 प्रवासी मजदूरों के बैंक खातों में एक- एक हजार रुपये की सहायता राशि भेज कर इस योजना का शुभारंभ किया। एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि राज्य के दो लाख 47 हजार 25 प्रवासी मजदूरों ने अब तक इस ऐप के माध्यम से सहायता के लिए अपना निबंधन कराया है। उन्होंने बताया कि विभिन्न जिलों के उपायुक्तों द्वारा अब तक दो लाख 10 हजार 464 प्रवासी मजदूरों के निबंधन का अनुमोदन किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना की आशंका में परिवार का बहिष्कार, CM सोरेन ने मदद के दिये निर्देश

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से देश के विभिन्न राज्यों में झारखंड के मजदूर बंधु बड़ी संख्या में फंसे हुए हैं। लॉकडाउन के शुरुआती चरण से ही राज्य सरकार ने देश के विभिन्न राज्यों के सरकार के पदाधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर प्रवासी मजदूरों के लिए राशन अथवा खाद्यान्न उपलब्ध कराने का काम किया था। इसी कड़ी में आज प्रवासी मजदूरों को मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना मोबाइल ऐप के जरिए 1000 रुपये की सहायता राशि उपलब्ध कराए जाने का शुभारंभ हुआ है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...