गोवा रेस्टोरेंट बार विवाद पर HC की बड़ी टिप्पणी, स्मृति या उनकी बेटी रेस्तरां की मालिक नहीं, झूठी बातें फैलाई गईं हैं

Smriti
creative common
अभिनय आकाश । Aug 01, 2022 7:02PM
कांग्रेस नेताओं की तरफ से ये आरोप लगाया था कि मंत्री की बेटी गोवा में एक अवैध बार चला रही थी। अदालत ने कहा कि स्मृति ईरानी और उनकी बेटी रेस्तरां की मालिक नहीं हैं।

दिल्ली उच्च न्यायालय कहा कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनकी बेटी जोइश गोवा रेस्तरां की मालिक नहीं हैं। अदालत ने कहा कि उनके पक्ष में कभी कोई लाइसेंस जारी नहीं किया गया। स्मृति ईरानी द्वारा कांग्रेस नेताओं के खिलाफ दीवानी मानहानि का मुकदमा दायर करने के बाद अदालत का आदेश सुनाया गया था। कांग्रेस नेताओं की तरफ से ये  आरोप लगाया था कि मंत्री की बेटी गोवा में एक अवैध बार चला रही थी। अदालत ने कहा कि स्मृति ईरानी और उनकी बेटी रेस्तरां की मालिक नहीं हैं। स्मृति ईरानी या उनकी बेटी ने कभी भी लाइसेंस के लिए आवेदन नहीं किया। न तो रेस्तरां और न ही जमीन का स्वामित्व स्मृति ईरानी या उनकी बेटी के पास है।

इसे भी पढ़ें: क्या बाबुल सुप्रियो को मिलेगी मंत्रिमंडल में जगह ? ममता बनर्जी 4-5 चेहरों को कैबिनेट में करेंगी शामिल

स्मृति ईरानी ने कांग्रेस नेताओं पवन खेड़ा, जयराम रमेश और नेट्टा डिसूजा और कांग्रेस पार्टी को 'बदनाम करने, बदनाम करने और छवि धूमिल करने के तिरछे मकसद के साथ व्यक्तिगत हमले की साजिश' के लिए नोटिस भेजा था। भाजपा नेता ने कांग्रेस और उसके नेताओं से उनके और उनकी बेटी के खिलाफ "निराधार और झूठे" आरोपों के लिए माफी मांगने की मांग की।

इसे भी पढ़ें: Parliament: लोकसभा में महंगाई पर हुई चर्चा, राज्यसभा में अभी भी गतिरोध कायम

इसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने स्मृति ईरानी द्वारा दायर एक दीवानी मानहानि के मुकदमे पर कांग्रेस नेताओं जयराम रमेश, पवन खेरा और नेट्टा डिसूजा को समन जारी किया था। भाजपा नेता ने उनके और उनकी बेटी के खिलाफ 'निराधार' आरोपों के लिए 2 करोड़ रुपये से अधिक का हर्जाना मांगा। अदालत ने कांग्रेस नेताओं से केंद्रीय मंत्री और उनकी बेटी के खिलाफ लगाए गए आरोपों पर ट्वीट और अन्य सोशल मीडिया पोस्ट को हटाने के लिए कहा। कोर्ट ने आगे कहा कि बचाव पक्ष (कांग्रेस के तीनों नेता) के लोगों ने अन्य कुछ लोगों के साथ मिलकर झूठी बातें कहीं। साथ ही साथ स्मृति ईरानी और उनकी बेटी पर निजी हमले भी किए।  दिल्ली हाईकोर्ट ने माना कि ऐसा करके स्मृति ईरानी की छवि को धूमिल करने का काम किया गया। मामले की अगली सुनवाई 18 अगस्त को होगी। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़