भारी बारिश से उत्तराखंड में सामान्य जनजीवन अस्तव्यस्त,महिला लापता

Heavy rains disrupt normal life in Uttarakhand, woman missing
उत्तराखंड में भारी बारिश के बाद सामान्य जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है।मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उसका स्थलीय निरीक्षण किया और देहरादून के जिलाधिकारी राजेश कुमार को सड़क के क्षतिग्रस्त भाग को जल्द से जल्द ठीक करने के निर्देश दिए।

देहरादून। उत्तराखंड में लगातार भारी बारिश के कारण भूस्खलन के मलबे में एक महिला दब गयी जिसे अब तक निकाला नहीं जा सका है, इस बीच देहरादून—ऋषिकेश मार्ग पर एक पुल के क्षतिग्रस्त होने तथा राष्ट्रीय राजमार्गों सहित अनेक मार्गो पर मलबा आने और पुश्ते टूटने के कारण यातायात अवरूद्ध होने से सामान्य जनजीवन अस्त—व्यस्त हो गया है। प्रदेश के पिथौरागढ के धारचूला क्षेत्र के जोशी गांव में भारी बारिश के दौरान एक मकान पर भूस्खलन का मलबा गिरने से एक महिला उसके नीचे दब गई। धारचूला के उपजिलाधिकारी ए के शुक्ला ने बताया कि बृहस्पतिवार देर रात हुई इस घटना की जानकारी मिलने के बाद 23 वर्षीय पशुपति देवी की तलाश के लिए एक टीम भेजी गयी है।हांलांकि, महिला का अब तक पता नहीं चला है। उन्होंने बताया कि भूस्खलन का मलबा गिरने से क्षेत्र के 13 अन्य मकान भी क्षतिग्रस्त हुए हैं।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट, देहरादून-ऋषिकेश के बीच का पुल टूटा, कई गाड़ियां बहीं

देहरादून में भारी बारिश के कारण नदी में आए ज्यादा पानी से सहस्त्रधारा-मालदेवता मार्ग भी क्षतिग्रस्त हो गया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उसका स्थलीय निरीक्षण किया और देहरादून के जिलाधिकारी राजेश कुमार को सड़क के क्षतिग्रस्त भाग को जल्द से जल्द ठीक करने के निर्देश दिए। देहरादून से ऋषिकेश के रास्ते में पड़ने वाला रानी पोखरी पुल भी भारी बारिश से क्षतिग्रस्त हो गया। जाखन नदी पर बने रानीपोखरी पुल के दो स्लैब भारी बारिश से बह गए। ऋषिकेश छोर की तरफ 15 फुट का स्लैब जब सुबह बहा, उस समय उस पर तीन वाहन भी थे जो उसी के साथ नदी में गिर गए। इनमें सवार तीन लोग मामूली रूप से घायल हुए। मौके पर पहुंचे देहरादून के जिलाधिकारी ने बताया कि स्लैब के साथ जाखन नदी में गिरे वाहनों में से सभी सवारियों को बाहर निकाल लिया गया है। उन्होंने बताया कि लोकनिर्माण विभाग को क्षतिग्रस्त पुल पर आवाजाही बंद करने तथा मॉनसून खत्म होने पर जाखन नदी पर आवागमन के विकल्पों पर विचार करने के निर्देश दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन पर उत्तराखंड में एक दिन का राजकीय शोक

इस बीच, ऋषिकेश के नटराज चौक पर पुलिस देहरादून, हरियाणा, हिमाचल की तरफ जाने वाले यातायात को नेपाली फार्म के तिराहे की तरफ मोड़ रही है। इसके अलावा, नरेंद्र नगर से थोड़ा आगे टिहरी की तरफ जाने वाले मार्ग आगराखाल के पास टूट कर बह गया जिससे टिहरी व उत्तरकाशी का आल वेदर रोड के जरिये ऋषिकेश- देहरादून- हरिद्वार से संपर्क कट गया। इस बीच, अत्यधिक बारिश के कारण राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 58 मलबा आने और पुश्ते टूटने से जगह—जगह क्षतिग्रस्त हो गया। टिहरी की जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने जनसुरक्षा की दृष्टि से उसे टिहरी जिले में तपोवन से मलेथा तक सभी वाहनों के लिए तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया है। उन्होंने कहा कि ऋषिकेश—गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग बगडधार और हिंडोलाखाल ​सहित कई स्थानों पर बडे़—बडे़ बोल्डर आने के कारण क्षतिग्रस्त हो गया है जबकि फकोट के निकट बेमुंडा और सोनी गांवों के बीच राजमार्ग का एक बडा हिस्सा बह गया। जिलाधिकारी ने बताया कि ऋषिकेश—बदरीनाथ राजमार्ग भी भूस्खलन से कई जगह बाधित हुआ है। पिछले कुछ दिनों से उत्तराखंड के ज्यादा स्थानों पर भारी बारिश हो रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़