दिल्ली NCR में तेज बारिश से सड़क पर सैलाब, यातायात प्रभावित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 20, 2020   11:11
दिल्ली NCR में तेज बारिश से सड़क पर सैलाब, यातायात प्रभावित

मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि शहर में जगह-जगह पानी भरे होने की वजह से यातायात बाधित होने और सड़क हादसों के बढ़ने की आशंका है। सफदरजंग वेधशाला में बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे से लेकर बृहस्पतिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक 46 मिमी बारिश दर्ज की गई।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार को भी बारिश जारी रहने से कई इलाकों और प्रमुख मार्गों पर पानी भरा रहा, जिससे सुबह-सुबह यातायात बाधित हुआ। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने बृहस्पतिवार को भी शहर में भारी बारिश का पूर्वानुमान व्यक्त किया है। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि शहर में जगह-जगह पानी भरे होने की वजह से यातायात बाधित होने और सड़क हादसों के बढ़ने की आशंका है। सफदरजंग वेधशाला में बुधवार सुबह साढ़े आठ बजे से लेकर बृहस्पतिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक 46 मिमी बारिश दर्ज की गई।

शहर में हर साल 19 अगस्त सुबह साढ़े आठ बजे से 20 अगस्त सुबह साढ़े आठ बजे के बीच औसतन 11.3 मिमी बारिश होती है। पालम मौसम केन्द्र में इस दौरान 70.9 मिमी बारिश दर्ज की गई, जोसामान्य से छह गुना से भी अधिक है। नरेला-बवाना रोड, राजा गार्डन फ्लाईओवर, कस्तूरबा अंडरपास, एमबी रेड, झंडेवालान मंदिर, झिलमिल अंडरपास, आजादपुर सब्जी मंडी, सराय पीपल थला, जहांगीरपुरी, मदनपुर खादर समेत अन्य स्थानों पर यातायात प्रभावित रहा। 

इसे भी पढ़ें: मूसलाधार बारिश से जनजीवन प्रभावित, मध्य भारत में अगले पांच दिन में भारी बारिश की संभावना

शहर में बुधवार को भी लगातार बारिश की वजह से ऐसी हालत भी। दक्षिण दिल्ली के साकेत में जे ब्लॉक में एक स्कूल की दीवार गिरने से कई गाड़ियां क्षतिग्रस्त हो गईं। भारत मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय अनुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा था कि बृहस्पतिवार को भी राष्ट्रीय राजधानी में मानसून की ऐसी ही स्थिति रहेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।