हेमंत सोरेन ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र, NEET और JEE परीक्षाएं स्थगित करने की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 28, 2020   07:31
हेमंत सोरेन ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र, NEET और JEE परीक्षाएं स्थगित करने की मांग की

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री का ध्यान इन परीक्षाओं की स्थिति में छात्रों एवं उनके अभिभावकों को होने वाली कठिनाइयों की ओर आकृष्ट किया है और कहा है कि सदियों में एक बार होने वाली ऐसी महामारी में परीक्षार्थियों की कठिनाई पर सरकार को ध्यान देना चाहिए।

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने केन्द्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को बृहस्पतिवार को पत्र लिखकर सितंबर के प्रथम सप्ताह में निर्धारित नीट तथा जेईई परीक्षाएं स्थगित करने का अनुरोध किया है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने केन्द्रीय शिक्षा मंत्री निशंक को आज लिखा गया अपना पत्र रात्रि में ट्वीट किया जिसमें केन्द्रीय मंत्री से अनुरोध करते हुए कहा गया है, ‘‘कोरोना वायरस की महमारी की वर्तमान परिस्थितियों में परीक्षार्थियों एवं उनके माता-पिता के स्वास्थ्य को होने वाले संभावित खतरे को देखते हुए तथा यातायात के साधनों की गैर उपलब्धता और होटलों, लाज एवं धर्मशालाओं के बंद होने की स्थिति में परीक्षा केन्द्र तक सभी को पहुंचने में होने वाली कठिनाइयों के दृष्टिगत सितंबर के प्रथम सप्ताह में होने वाली नीट तथा जेईई परीक्षाओं को स्थगित करने की कृपा की जाये।’’ 

इसे भी पढ़ें: NEET, JEE के अभ्यर्थियों को कोरोना संक्रमण, परीक्षा केंद्र तक परिवहन का अभाव और बाढ़ का सता रहा डर

मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री का ध्यान इन परीक्षाओं की स्थिति में छात्रों एवं उनके अभिभावकों को होने वाली कठिनाइयों की ओर आकृष्ट किया है और कहा है कि सदियों में एक बार होने वाली ऐसी महामारी में परीक्षार्थियों की कठिनाई पर सरकार को ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के करियर के लिए इन परीक्षाओं का अत्यधिक महत्व है लिहाजा कोविड-19 महामारीकाल में उनकी तैयारियों पर पड़े असर का भी संज्ञान सरकार को अवश्य लेना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।