ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखा पत्र, कहा- हेमताबाद के विधायक की मौत राजनीतिक मामला नहीं लगता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 15, 2020   14:57
ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखा पत्र, कहा- हेमताबाद के विधायक की मौत राजनीतिक मामला नहीं लगता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पत्र में लिखा, ‘‘पोस्टमार्टम रिपोर्ट और प्रारंभिक जांच के आधार पर पश्चिम बंगाल पुलिस ने इसे संदिग्ध आत्महत्या का मामला बताया है और यह धन के लेनदेन का स्थानीय मामला हो सकता है।’’

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर कहा कि भाजपा के हेमताबाद के विधाायक देबेंद्र नाथ रे की मौत ‘‘संदिग्ध आत्महत्या का मामला’’ है न कि राजनीतिक जैसा कि भाजपा पेश कर रही है। उन्होंने यह पत्र तब लिखा है जब एक दिन पहले भाजपा के प्रतिनिधिमंडल ने अपने विधायक की मौत पर राष्ट्रपति से मुलाकात की। विधायक सोमवार को उत्तर दिनाजपुर जिले के बिंदल गांव में अपने घर के पास एक बरामदे में फांसी से लटके हुए पाए गए थे। बनर्जी ने पत्र में लिखा, ‘‘पोस्टमार्टम रिपोर्ट और प्रारंभिक जांच के आधार पर पश्चिम बंगाल पुलिस ने इसे संदिग्ध आत्महत्या का मामला बताया है और यह धन के लेनदेन का स्थानीय मामला हो सकता है।’’ 

इसे भी पढ़ें: भाजपा नेता देबेन्द्र नाथ रे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा, फांसी लगने से हुई मौत 

उन्होंने कहा, ‘‘मृतक की जेब में मिले पत्र में दो ऐसे लोगों के नाम भी लिखे हैं जो कथित तौर पर इलाके में धन के लेनदेन की ऐसी गतिविधियों से जुड़े पाए गए। मुझे खेद के साथ यह कहना पड़ रहा है कि यह राजनीतिक मामला नहीं लगता जैसा कि भाजपा पेश कर रही है।’’ तृणमूल कांग्रेस के संसदीय दल के नेता डेरेक ओ’ब्रायन की अध्यक्षता में पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार को राष्ट्रपति से मुलाकात कर उन्हें मामले के तथ्यों से अवगत कराया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।