• दुर्गा पूजा में कट्टरपंथियों के निशाने पर हिन्दू, भारत ने कहा- क़ानून व्यवस्था सुनिश्चित करें बांग्लादेश

अंकित सिंह Oct 14, 2021 18:37

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हमें बांग्लादेश में धार्मिक आयोजनों के दौरान आक्रमण की कुछ परेशान करने वाली घटनाओं की रिपोर्ट मिली है। बांग्लादेश सरकार ने क़ानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए तैनाती सहित तुरंत कदम उठाए हैं।

बांग्लादेश में दुर्गा पूजा समारोह के दौरान कुछ कट्टरपंथियों ने पूजा पंडालों को छतिग्रस्त कर दिया। इसके साथ ही दंगों में 3 लोगों की मौत की भी सूचना है जबकि कई घायल बताए जा रहे हैं। इसको लेकर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है और कहा है कि बांग्लादेश सरकार कानून व्यवस्था सुनिश्चित करें। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि हमें बांग्लादेश में धार्मिक आयोजनों के दौरान आक्रमण की कुछ परेशान करने वाली घटनाओं की रिपोर्ट मिली है। बांग्लादेश सरकार ने क़ानून व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए तैनाती सहित तुरंत कदम उठाए हैं।

अरिंदम बागची ने आगे कहा कि हम बांग्लादेश सरकार के साथ संपर्क में हैं। बांग्लादेश सरकार ने पुलिस और दूसरी सुरक्षा व्यवस्थाएं की हैं। बांग्लादेश में दुर्गा पूजा आयोजन चल रहे हैं, इसमें बांग्लादेश सरकार और जनता का काफी सहयोग रहा है। आपको बता दें कि बांग्लादेश में दुर्गा पूजा समारोह के दौरान कुछ कट्टरपंथियों ने हिंदुओं के मंदिरों को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिसके चलते सरकार को 22 जिलों में अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती करनी पड़ी है। मीडिया की खबरों में बृहस्पितवार को बताया गया कि दंगों में तीन लोगों की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। 

इसे भी पढ़ें: बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडाल में तोड़फोड़, 3 लोगों की हुई मौत, शुभेंदु अधिकारी ने PM मोदी को लिखा पत्र

बीडीन्यूज24 डॉट कॉम समाचार वेबसाइट की खबर के मुताबिक ईशनिंदा के आरोपों के बाद, यहां से करीब 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कमीला में एक स्थानीय मंदिर बुधवार को सोशल मीडिया पर मचे बवाल का केंद्र बिंदु बन गया। खबर के मुताबिक झड़प के बाद प्रशासन और पुलिस ने स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश की। खबर में बताया गया है कि चांदपुर के हाजीगंज, चटगांव के बांसखली और कॉक्स बाजार के पेकुआ में हिंदू मंदिरों को नुकसान पहुंचाये जाने की घटनाएं भी हुई हैं। ‘ढाका ट्रिब्यून’ समाचार-पत्र ने खबर दी कि एक स्थान पर स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई और दंगे कई दुर्गा पूजा आयोजन स्थलों तक फैल गए। इसने बताया कि स्थानीय प्रशासन और पुलिस पर उस वक्त हमला किया गया, जब वह कानून-व्यवस्था कायम करने की कोशिश कर रही थी।