पहले मतगणना में लगते थे दो से तीन दिन और मतगणना स्थल के बाहर लगता था मेला

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 22 2019 4:27PM
पहले मतगणना में लगते थे दो से तीन दिन और मतगणना स्थल के बाहर लगता था मेला
Image Source: Google

उत्तर प्रदेश के निदेशक सूचना अधिकारी और मतपत्रों से मतगणना कराने का अनुभव रखने वाले आईएएस अधिकारी शिशिर बताते है कि ‘तब, पहले मतपेटियां खुलती थीं, मेजों पर वोट पलटे जाते थे, उनकी गडि्डयां बनती थीं और इसके बाद एक एक वोट की गिनती होती थी।

लखनऊ। इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों के इस्तेमाल से न सिर्फ मतदान और मतगणना में लगने वाला समय कम हुआ है ,मतगणना के मौके पर आम तौर पर दिखाई देने वाला जोश एवं रोमांच भी सिमट सा गया है। जरा अपनी यादों की किताब के पुराने पन्ने पलटिए और और करीब दो दशक पहले तक के मतगणना स्थल के बाहर के नजारे याद कीजिए जब इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें नहीं आई थीं और न ही चुनाव आयोग का इतना खौफ था। इस लोकसभा चुनाव में पहली बार मतदान करने वाली नयी पीढी दो से तीन दिन तक चलने वाली मतगणना के रोमांच से महरूम रह गयी।

इसे भी पढ़ें: परिणाम से पहले कार्यकर्ताओं के लिए राहुल का संदेश, मेहनत नहीं जाएगी बेकार

उत्तर प्रदेश के निदेशक सूचना अधिकारी और मतपत्रों से मतगणना कराने का अनुभव रखने वाले आईएएस अधिकारी शिशिर बताते है कि ‘तब, पहले मतपेटियां खुलती थीं, मेजों पर वोट पलटे जाते थे, उनकी गडि्डयां बनती थीं और इसके बाद एक एक वोट की गिनती होती थी। विवादित मतपत्रों की जांच माइक्रोस्कोप से होती थी लेकिन अगर फिर भी इसमें कोई विवाद हो जाता था तो फिर मत अवैध घोषित कर दिया जाता था। उन्होंने कहा कि पहले लोकसभा चुनाव में दो से तीन दिन और नगर निगम चुनाव में तीन दिन से ज्यादा का समय लगता था। 

राजनीतिक विश्लेषक राजेंद्र द्विवेदी ने कहा कि उन दिनों तीन तीन दिन तक मतगणना का काम होता था और प्रत्येक राउंड के बाद कौन सा प्रत्याशी कितने वोट से आगे है, इसकी घोषणा होती थी और स्थिति हर कुछ घंटे में बदलती रहती थी। चुनाव परिणाम आने पर होली के त्यौहार सा नजारा होता था। द्विवेदी कहते है कि इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से पूरे देश में एक साथ चुनाव वर्ष 2004 से आरंभ हुआ था। इससे पहले 1998 से 2001 के बीच देश के विभिन्न हिस्सों में कुछ क्षेत्रों में ट्रायल बेसिस पर ईवीएम को आजमाया गया था।



इसे भी पढ़ें: एग्जिट पोल के बाद एक्टिव हुआ विपक्ष, EVM-VVPAT पर दिल्ली में मंथन

पहली बार मतदान करने वाले छात्र शिखर सिन्हा कहते है कि इसके बारे में हमें कोई जानकारी नहीं है, अपने घर वालों से सुना जरूर है कि चुनाव परिणाम आने में दो से तीन दिन लगते थे। अब तो फटाफट का जमाना हैईवीएम से समय बचता है और एक ही दिन में सारा हो हल्ला खत्म हो जाता है। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video