पन्ना में हुए एसिड अटैक पर बोले गृह मंत्री, कहा - घटना हृदय विदारक है

पन्ना में हुए एसिड अटैक पर बोले गृह मंत्री, कहा - घटना हृदय विदारक है

नरोत्तम मिश्रा ने जानकारी देते हुए कहा कि दोनों आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। पीड़िता की आंख अंदर से जख्मी नहीं है। उन्होंने बताया कि आंखों की रोशनी बनी हुई है और उसका चित्रकूट के नेत्र अस्पताल मे इलाज चल रहा है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में हुए एसिड अटैक मामले में विपक्ष के हमलावर होने के बाद प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बयान सामने आया है। नरोत्तम मिश्रा ने घटना को हृदय विदारक बताया है।

इसे भी पढ़ें:पन्ना में हुए एसिड अटैक पर कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर लगाया आरोप, कहा - प्रदेश में महिलाएं है असुरक्षित 

नरोत्तम मिश्रा ने जानकारी देते हुए कहा कि दोनों आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। पीड़िता की आंख अंदर से जख्मी नहीं है। उन्होंने बताया कि आंखों की रोशनी बनी हुई है और उसका चित्रकूट के नेत्र अस्पताल मे इलाज चल रहा है। पीड़िता को अगले 24 घंटे तक ऑब्जर्वेशन के लिए रखी गई है।

वहीं मामला सामने आने के बाद कांग्रेस सरकार पर तीखा हमला किया है। कमलनाथ ने ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला और कहा कि “शिवराज सरकार में मध्यप्रदेश में क्या हो रहा है, बहन-बेटियां कहीं भी सुरक्षित नहीं है, अपराधियों को क़ानून का ख़ौफ़ नही ? एनसीआरबी की ताज़ा रिपोर्ट ने भी प्रदेश की कानून व्यवस्था की वास्तविकता उजागर की है।”

इसे भी पढ़ें:पन्ना में युवती पर एसिड फेक मसली उसकी आंखें, 2 आरोपी 5 घण्टे के अंदर हुए गिरफ्तार 

उन्होंने आगे कहा, “अब पन्ना जिले के पवई थाना क्षेत्र के ग्राम बराहों में एक युवती पर एसिड अटैक की नृशंस घटना सामने आई है ,जिसके कारण युवती की दोनों आंखें झुलस गई है। युवती व उसके भाई के साथ मारपीट व छेड़खानी का मामला भी सामने आया है। यह घटना प्रदेश को देश भर में शर्मशार व कलंकित करने वाली है। 

कमलनाथ ने कहा कि "मैं सरकार से माँग करता हूँ कि युवती की आंखों का बेहतर से बेहतर इलाज सरकार अपने खर्च पर करवाये। युवती के बारे में जानकारी लगी है कि वह एक छोटी सी दुकान चलाकर अपना भरण पोषण करती थी ,उसके भरण पोषण का भी सरकार समुचित इंतजाम कर उसकी हर संभव मदद करे व दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जावे।"





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।