कमल की कहानी: कभी कार्यालय के लिए किराए पर नहीं देता था कोई प्रॉपर्टी, आज नए निर्णयों की प्रयोगशाला बन गया गुजरात

Gujarat
ANI
अभिनय आकाश । Nov 24, 2022 6:04PM
प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए राष्ट्रीय आपातकाल ने भारत की राजनीति को बदल दिया था। 1977 में मोरारजी देसाई सहित बागी कांग्रेसी नेता और कुछ कांग्रेस विरोधी दलों के नेता उन्हें हटाने के लिए एकजुट हुए और जनता पार्टी ने आकार लिया।

गुजरात में एक कहावत है: "जब कुछ नहीं काम करता, तो मोदी काम करते हैं। ऐसा ही कुछ नजारा देखने को भी मिला था। भाजपा जहां विकास बुलंद है, मैं ही गुजरात हूं, मैं ही विकास हूं’ जैसे नारे के साथ चुनावी रण में अपना खम ठोकती नज़र आ रही थी तो वहीँ राहुल गांधी गुजरात में विकास को पागल करार देने में लगे थे। कांग्रेस की तरफ से जहां हार्दिक, अल्पेश और जिग्नेश की तिकड़ी के भरत सिंह सोलंकी की खाम थ्योरी की तर्ज पर मैदान मारने की मंशा थी। लेकिन पाटीदार आंदोलन, ऊना की घटना और जातिय गोलबंदी को मोदी की एक भावुक अपील के जरिये ऐसे हवा कर दिया की विपक्ष का सत्ता से वनवास का दौर तीन दशक के आंकड़े को छूने के करीब पहुंच गया। गुजरात को बीजेपी का सबसे मजबूत दुर्ग कहा जाता है। इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह है कि पिछले 27 सालों से बीजेपी यहां सत्ता में है। महाराष्ट्र से अलग होकर अस्तित्व में आए इस राज्य में एक ऐसा वक्त था जब कोई बीजेपी को कार्यालय के लिए किराए पर भी प्रॉपर्टी नहीं देता था। सरदार पटेल के गुजारत में आखिर ऐसा क्या हुआ कि वो न केवल उसका सबसे मजबूत गढ़ बना बल्कि कमल के कमाल की प्रयोगशाना भी बन गया।

इसे भी पढ़ें: श्रद्धा हत्याकांड पर बोले ओवैसी, ये लव जिहाद का मामला नहीं, सियासी रोटी सेंक रही बीजेपी

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए राष्ट्रीय आपातकाल ने भारत की राजनीति को बदल दिया था। 1977 में  मोरारजी देसाई सहित बागी कांग्रेसी नेता और कुछ कांग्रेस विरोधी दलों के नेता उन्हें हटाने के लिए एकजुट हुए और जनता पार्टी ने आकार लिया। बीजेएस का भी जनता पार्टी में विलय हो गया। हालांकि इंदिरा ने सत्ता खो दी और जनता पार्टी का प्रयोग लंबे समय तक कारगर नहीं रहा। 1980 में, जनसंघ गुट दोहरी सदस्यता (राजनीतिक जनता पार्टी और सामाजिक संगठन आरएसएस) के मुद्दे पर जनता पार्टी से अलग हो गया और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का गठन किया। इन घटनाक्रमों से गुजरात की राजनीति भी अछूती नहीं रह सकी।

1980 के चुनाव

कांग्रेस ने 182 में से 141 सीटें जीतीं। जनता पार्टी को 21 सीटें मिलीं और भाजपा ने 9 के साथ शुरुआत की। लेकिन फिर, बोरसद से महुधा तक, भगवा राजनीति को निराशा हाथ लगी। बोरसद में कांग्रेस (आई) के गोहेल उमेदभाई फतेहसिंह ने जनता पार्टी के पटेल चतुरभाई भाईलालभाई को हराया। झगड़िया में कांग्रेस (आई) के वसावा रावदास लिमजीभाई ने जनता पार्टी के वसावा खुशलभाई वलजीभाई को हराया। व्यारा में कांग्रेस (आई) के अमरसिंह भीलाभाई चौधरी ने जनता पार्टी के चौधरी मोहनभाई रावजीभाई को हराया। भिलोदा में कांग्रेस (आई) के त्रिवेदी मनुभाई अंबाशंकर ने बीजेपी के नाथुभाई जी पटेल को हराया। महुधा में कांग्रेस (आई) के सोधा बलवंतसिंह सुधनसिंह ने जनता पार्टी के पठान छोटेखान बिस्मिलखान को हराया।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल में रिवाज नहीं राज बदलने वाला है? कांग्रेस का आत्मविश्वास, EVM पर पहरा और लीक ऑडियो दे रहे संकेत, क्या हार रही है बीजेपी

1985 के चुनाव

1985 में कांग्रेस गुजरात में सत्ता में लौट आई। लेकिन यह कोई साधारण जीत नहीं थी। पार्टी ने राज्य विधानसभा की कुल 182 सीटों में से रिकॉर्ड 149 सीटें जीतीं। इसका वोट प्रतिशत 55 प्रतिशत से अधिक था, जो कि भाजपा को भी छूना अभी बाकी है। हालाँकि, जल्द ही बहुत कुछ बदलना शुरू होना था। 1985 वह समय भी था जब अहमदाबाद, राजधानी गांधीनगर और राज्य के कुछ अन्य स्थानों पर पिछड़े वर्गों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार की आरक्षण नीति पर लंबे समय तक दंगों का सामना करना पड़ा, जो बाद में सांप्रदायिक हिंसा में बदल गया। इस बीच, अंतिम सीमा को छोड़कर, गुजरात में भाजपा का प्रभाव बढ़ रहा था।

मंडल बनाम कमंडल

1989 के लोकसभा चुनावों के दौरान, बोफोर्स प्रधान मंत्री राजीव गांधी के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती थी। विपक्ष ने एक अवसर को भांप लिया और जनता राजनीति के गोंद के लिए फिर से हाथापाई की। वीपी सिंह नए मोरारजी देसाई थे। जनता पार्टी के अवशेषों और अन्य कांग्रेस विरोधी दलों ने जनता दल बनाने के लिए हाथ मिलाया। पार्टी ने चुनाव जीता और बिहार में लालू यादव सहित राज्यों में मुख्यमंत्री भी बनाए। गुजरात में भी ऐसी ही पटकथा सामने आ रही थी।

1995 के चुनाव

1992 की अयोध्या की घटना के तीन साल बाद चुनाव हुए तो बीजेपी अपने बूते पर सत्ता में थी। बीजेपी को 121 सीटें मिलीं, जबकि कांग्रेस को 45 और 16 निर्दलीय जीते। जनता दल का सूपड़ा साफ हो गया। ये किसी करिश्मे से कम नहीं था। इस जीत का श्रेय लालकृष्ण आडवाणी, केशुभाई पटेल, शंकर सिंह वाघेला के साथ नरेंद्र मोदी को दिया गया। केशुभाई मुख्यमंत्री बने। 

मोदी ने कार्यभार संभाला

केशुभाई पटेल अस्वस्थ थे और अलोकप्रिय हो रहे थे। भाजपा कुछ राज्यों के उपचुनाव हार गई। नरेंद्र मोदी को सत्ता संभालने के लिए दिल्ली से गुजरात भेजा गया। अगले साल गोधरा ट्रेन जलाना और गुजरात दंगे हुए। आलोचना के तहत, सीएम मोदी ने अपने कार्यकाल समाप्त होने से आठ महीने पहले नए सिरे से चुनाव कराने का आह्वान किया। बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला. कांग्रेस को सिर्फ 51 सीटें मिली थीं।

इसे भी पढ़ें: बीजेपी के लिए व्यक्ति से बढ़कर पार्टी और पार्टी से बड़ा देश है, मेहसाणा में बोले PM मोदी- यही हमारी संस्कृति

जलवा अभी तक है कायम

2001 में नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने और फिर यहां से मोदी युग शुरू हुआ। वे 2014 तक मुख्यमंत्री रहे। इसके बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी नरेंद्र मोदी के चेहरे पर उतरी और 30 साल बाद ऐसा हुआ जब किसी पार्टी ने लोकसभा में अकेले दम पर बहुमत हासिल किया। जीत का कारवां 2019 में और आगे बढ़ा और इस बार मोदी मैजिक ने बीजेपी के आंकड़े को 303 सीटों तक पहुंचा दिया।

अन्य न्यूज़