PM मोदी ने संघ नेता एच सोमशेखर से 6 मिनट तक फोन पर की बात, जाना सेहत का हाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   12:21
PM मोदी ने संघ नेता एच सोमशेखर से 6 मिनट तक फोन पर की बात, जाना सेहत का हाल

संघ के वरिष्ठ नेता ने कई यादों का जिक्र किया कि किस तरह 1968 में वी एस आचार्य के नेतृत्व में जन संघ उडुपी नगर निगम में सत्तासीन हुआ था, संघ परिवार के साथ अपने दशकों पुराने संबंध तथा आपातकाल के दौरान कारावास की घटनाएं भी उनके जेहन में आईं।

मेंगलुरु। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कर्नाटक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वयोवृद्ध नेता एच सोमशेखर से फोन पर बात की और उनकी सेहत के बारे में जानकारी ली। भट्ट के परिवार के सूत्रों ने बताया कि दूसरी ओर से प्रधानमंत्री की आवाज सुनकर वह भावुक हो उठे। प्रधानमंत्री ने उन्हें सुबह साढ़े आठ बजे फोन लगाया और ‘सोमशेखर जी’ कहकर संबाोधित किया तथा करीब छह मिनट तक उनसे बात की। संघ के वरिष्ठ नेता ने कई यादों का जिक्र किया कि किस तरह 1968 में वी एस आचार्य के नेतृत्व में जन संघ उडुपी नगर निगम में सत्तासीन हुआ था, संघ परिवार के साथ अपने दशकों पुराने संबंध तथा आपातकाल के दौरान कारावास की घटनाएं भी उनके जेहन में आईं। उडुपी नगर निगम के अध्यक्ष रह चुके भट्ट ने कहा कि यह उनके लिए एक दुर्लभ सम्मान है। 

इसे भी पढ़ें: सरकारी कर्मचारियों के महंगाई भत्ते पर लगी रोक, मनमोहन सिंह बोले- मुश्किल पैदा करना उचित नहीं

भट्ट ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री मोदी ने फोन करके मुझसे बात की, मुझे बहुत प्रसन्नता हुई। जयपुर सत्र में उनसे मुलाकात का अपना अनुभव मैंने उन्हें बताया। उन्होंने सेहत का ध्यान रखने को कहा और चिंता जताई।’’ प्रधानमंत्री पार्टी के उन वरिष्ठ पदाधिकारियों से बात कर रहे हैं जिन्होंने कठिनाईयों के वक्त संघ परिवार के लिए काम किया और भाजपा को बनाने में मदद की। वह उनसे सलाह मश्विरा भी कर रहे हैं। भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष नलिन कुमार कतील ने ट्वीट कर बताया कि प्रधानमंत्री पूर्व विधायक राम भट्ट और राज्य विधान परिषद के पूर्व अध्यक्ष डी एच शंकर मूर्ति से भी बात कर चुके हैं।

इसे भी देखें : Lockdown पर 27 April को CMs से चर्चा कर आगे का फैसला करेंगे PM Modi 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।