Prabhasakshi's Newsroom। क्या कांग्रेस जीत पाएगी 300 सीटें ? गुलाम नबी आजाद ने कही बड़ी बात

Prabhasakshi's Newsroom। क्या कांग्रेस जीत पाएगी 300 सीटें ? गुलाम नबी आजाद ने कही बड़ी बात

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी नेतृत्व को लेकर कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को खत लिखने वाले 23 नेताओं में शामिल गुलाम नबी आजाद ने शालीनता के साथ जम्मू-कश्मीर के पुंछ में एक रैली के दौरान बड़ी बात स्वीकार की। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता है कि पार्टी अगले आम चुनाव में 300 सीटें जीतेगी।

संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है। एक तरफ जहां कांग्रेस अंतर्कलह से जूझ रही है वही ममता बनर्जी कांग्रेस नेताओं को सहारा दे रही है। इसी बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने साल 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर बड़ा दावा कर दिया। हालांकि 2019 का लोकसभा चुनाव कैसा था... यह अभी तक कोई नहीं भूल पाया होगा। कांग्रेस को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा था और राहुल गांधी को अध्यक्ष पद गंवाना पड़ा था। 

इसे भी पढ़ें: विपक्ष पर बरसे मुख्तार अब्बास नकवी, कहा- सामंती गुरूर के सुरूर से बाहर आए और माफी मांगे 

क्या कांग्रेस जीत पाएगी 300 सीटें ?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी नेतृत्व को लेकर कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को खत लिखने वाले 23 नेताओं में शामिल गुलाम नबी आजाद ने शालीनता के साथ जम्मू-कश्मीर के पुंछ में एक रैली के दौरान बड़ी बात स्वीकार की। उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता है कि पार्टी अगले आम चुनाव में 300 सीटें जीतेगी। इस दौरान उन्होंने आर्टिकल 370 की भी बात कही। आजाद ने कहा कि संसद में मैं अकेले ही 370 पर बात करता आया हूं... आपको बता दें कि 5 अगस्त 2019 को केंद्र की मोदी सरकार ने आर्टिकल 370 के कुछ प्रावधानों को समाप्त कर जम्मू-कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों- जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का स्वरूप दे दिया था। जिसके बाद से लगातार जम्मू-कश्मीर के नेता आर्टिकल 370 की बहाली और जम्मू-कश्मीर को प्रदेश का दर्जा देने की मांग करते आए हैं। 

इसे भी पढ़ें: मुगालते में हैं मायावती को खारिज करने वाले, चुनावों में डार्क हॉर्स साबित हो सकती है बसपा 

पुंछ में रह रहे हैं हिंदू, मुस्लिम और सिख

जी23 नेताओं में शामिल आजाद ने कहा कि पुंछ में हिंदू, मुस्लिम और सिख तीनों ही धर्मों के लोग रहते हैं और यही हमारी और हमारे रियासत की पहचान है। इस इलाके की आवाज बनकर यहां के लोग पीओके और पाकिस्तान से लड़ते रहे। आपको बता दें कि पिछले कुछ वक्त से गुलाम नबी आजाद जम्मू-कश्मीर में लगातार रैलियां करते आए हैं और उन्होंने आज यह स्पष्ट कर दिया कि वो वादा नहीं कर सकते हैं कि साल 2024 में 300 सांसद आएंगे तो आर्टिकल 370 को बहाल करूंगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।