• तालिबान के साथ मुलाकात पर सामने आया MEA का बयान, जानिए क्या कुछ कहा ?

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि अफगानिस्तान में किस तरह की सरकार बन सकती है इसके बारे में हमें कोई विस्तार से जानकारी नहीं है। तालिबान के साथ बैठक के बारे में मेरे पास कोई जानकारी नहीं है।

नयी दिल्ली। अफगानिस्तान पर तालिबान का राज है। इसके बाद पहली बार भारत ने तालिबान के नेता के साथ बातचीत की। इस संबंध में भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि उनके पास कोई भी जानकारी नहीं है। दरअसल, कतर के दोहा में भारत के दूत ने तालिबानी नेता से मुलाकात की थी।  

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's Newsroom। तालिबान को लेकर क्या है भारत का स्टैंड? वेब पोर्टल के बारे में क्या सोचते हैं कश्मीरी? 

बैठक के बारे में कोई अपडेट नहीं

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि अफगानिस्तान में किस तरह की सरकार बन सकती है इसके बारे में हमें कोई विस्तार से जानकारी नहीं है। तालिबान के साथ बैठक के बारे में मेरे पास कोई जानकारी नहीं है।

क्या तालिबान ने भारत को दिया है न्यौता ?

आपको बता दें कि तालिबान शुक्रवार को अफगानिस्तान में सरकार का गठन कर सकता है। इसको लेकर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि तालिबानी सरकार की गठन को लेकर अभी कोई भी निमंत्रण की जानकारी नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: तालिबान के साथ मुलाकात को लेकर ओवैसी का मोदी सरकार पर तंज, बोले- पास आते भी नहीं, चिलमन से हटते भी नहीं 

वहीं, दोहा में तालिबान के साथ बातचीत वाले सवाल पर उन्होंने कहा कि इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। यह हां और ना की बात नहीं है। हमारा उद्देश्य है कि अफगानिस्तान की जमीन का इस्तेमाल किसी भी तरह की आतंकी गतिविधि के लिए न हो।