भाजपा पर बरसे अभिषेक बनर्जी, बोले- विफल रहा तो छोड़ दूंगा राजनीति

भाजपा पर बरसे अभिषेक बनर्जी, बोले- विफल रहा तो छोड़ दूंगा राजनीति

टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी ने मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि त्रिपुरा में लोकतंत्र पर हमले हो रहे हैं। यदि मतदाता स्वतंत्र रूप से अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते हैं, जिसकी मौजूदा स्थिति को देखते हुए काफी कम संभावना है तो अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा अपना खाता भी नहीं खोल पाएगी।

अगरतला। त्रिपुरा में नगर निकाय चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) आमने-सामने नजर आ रही है। इसी बीच टीएमसी का प्रचार करने के पहुंचे महासचिव अभिषेक बनर्जी ने भाजपा पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा ने आतंक का राज खोल दिया है क्योंकि उन्हें पहले से भी आभास हो गया है कि उनके सरकार में गिनती के दिन बचे हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें: त्रिपुरा संग्राम को लेकर TMC सांसदों की शाह से मुलाकात। सेंसेक्स में रिकॉर्ड गिरावट 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक टीएमसी महासचिव अभिषेक बनर्जी ने मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि त्रिपुरा में लोकतंत्र पर हमले हो रहे हैं। यदि मतदाता स्वतंत्र रूप से अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते हैं, जिसकी मौजूदा स्थिति को देखते हुए काफी कम संभावना है तो अगले विधानसभा चुनाव में भाजपा अपना खाता भी नहीं खोल पाएगी।

उन्होंने मतदाताओं से अपील की कि खुले में आने की आवश्यकता नहीं है। यदि आप लोगों मतदान केंद्र तक पहुंचने के लिए भाजपा के झंडे को धारणा करने की आवश्यकता होती है तो ऐसा ही करें। अपने आपको गुंडों से बचाने के लिए उनके राजनीतिक कार्यक्रमों में शामिल हों लेकिन विकास समर्थक टीएमसी को वोट दें।

विफल रहा तो छोड़ दूंगा राजनीति 

अभिषेक बनर्जी ने कहा कि भाजपा ने कल से आतंक का राज खोल दिया है क्योंकि उन्हें पहले ही आभास हो गया था कि सरकार में उनके दिन गिनती के बचे हैं। अगर मैं मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब और सुप्रीम कोर्ट में उनकी धमकी की रणनीति को हराने में विफल रहा तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा।

इसे भी पढ़ें: त्रिपुरा में तृणमूल कांग्रेस नेता सायानी घोष गिरफ्तार, अभिषेक बनर्जी की रैली को अनुमति नहीं

गौरतलब है कि टीएमसी की युवा नेता सायनी घोष को मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब की बैठक को कथित रूप से बाधित करने के कारण पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया था। जिसकी गिरफ्तारी के एक दिन बाद अभिषेक बनर्जी यहां पहुंचे। हालांकि सायनी घोष को त्रिपुरा की अदालत ने जमानत दे दी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।