वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने स्वदेश निर्मित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर में भरी उड़ान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2020   18:33
  • Like
वायुसेना प्रमुख भदौरिया ने स्वदेश निर्मित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर में भरी उड़ान
Image Source: Google

वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि एचएएल तेज गति से उत्पादन की प्रक्रिया पर जरूरी ध्यान देगा।’’

बेंगलुरु। वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने शुक्रवार को यहां हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा निर्मित हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर (एलसीएच) में अपनी पहली उड़ान भरी। एचएएल ने एक विज्ञप्ति में कहा कि विमान ने पूर्वाह्न 11.45 बजे उड़ान भरी और करीब एक घंटे आसमान में रहा। वायुसेना प्रमुख के साथ एचएएल के उप प्रमुख टेस्ट पायलट, विंग कमांडर (सेवानिवृत्त) एस पी जॉन भी थे। 

इसे भी पढ़ें: वायुसेना चीफ भदौरिया बोले, सशस्त्र बलों को हर प्रकार के खतरों से निपटने के लिए रहना होगा तैयार 

एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने एलसीएच परियोजना के सभी हितधारकों को शुक्रिया अदा करते हुए कहा, ‘‘यह बहुत अच्छी उड़ान रही। मैं महत्वपूर्ण उड़ान विशेषताओं और पहले से लगे हुए सेंसरों की स्थिति को देख सका।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे विश्वास है कि एचएएल तेज गति से उत्पादन की प्रक्रिया पर जरूरी ध्यान देगा।’’ विज्ञप्ति के अनुसार एचएएल के सीएमडी आर माधवन ने वायु सेना प्रमुख का आभार जताया और कहा कि एचएएल वायु सेना की सभी जरूरतों को पूरा करने के लिए एलसीएच के उत्पादन की प्रक्रिया के लिए तैयार है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


गहलोत का बड़ा ऐलान, राजस्थान में कोविड-19 की जांच 800 रुपये में होगी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   19:15
  • Like
गहलोत का बड़ा ऐलान, राजस्थान में कोविड-19 की जांच 800 रुपये में होगी
Image Source: Google

उन्होंने कहा, किट की लागत में कमी को देखते हुए अब राज्य सरकार सभी निजी प्रयोगशालाओं को यह जांच 1200 रुपये के बजाय 800 रुपये में करने को पाबंद करेगी। गहलोत ने कहा कि राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच केवल आरटी-पीसीआर के जरिए हो रही है, जो पूरी दुनिया में सबसे विश्वसनीय जांच प्रक्रिया है।

जयपुर। राजस्थान में निजी प्रयोगशालाओं में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच अब 1200 रुपये के बजाय 800 रुपये में होगी। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शनिवार को यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि आरटी-पीसीआर जांच किट की लागत में कमी को देखते हुए राज्य सरकार ने यह फैसला किया है। गहलोत ने कहा कि शुरू में निजी प्रयोगशालाओं में कोविड-19 जांच का शुल्क 2200 रुपये था जिसे बाद में सरकार ने 1200 रुपये तय किया। उन्होंने कहा, किट की लागत में कमी को देखते हुए अब राज्य सरकार सभी निजी प्रयोगशालाओं को यह जांच 1200 रुपये के बजाय 800 रुपये में करने को पाबंद करेगी। गहलोत ने कहा कि राजस्थान में कोरोना वायरस संक्रमण की जांच केवल आरटी-पीसीआर के जरिए हो रही है, जो पूरी दुनिया में सबसे विश्वसनीय जांच प्रक्रिया है।

गहलोत ने शनिवार को राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (आरयूएचएस) अस्पताल, जयपुर में 70 बिस्तर वाले नए कोविड आईसीयू, छह जिलों में आरटी-पीसीआर जांच प्रयोगशाला तथा जोधपुर के मथुरादास माथुर अस्पताल में अत्याधुनिक कैंसर उपचार वार्ड तथा अन्य चिकित्सा सुविधाओं का लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्तियों की अधिकाधिक जांच और समुचित इलाज के लिए पूरे राजस्थान में स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत किया गया है और अब हर जिले में आरटी-पीसीआर जांच की सुविधा उपलब्ध है। टोंक, प्रतापगढ़, राजमसन्द के नाथद्वारा, जैसलमेर, हनुमानगढ़ और बूंदी में जांच प्रयोगशाला का लोकार्पण करते हुए उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिलों में कोरोना की निशुल्क जांच के लिए प्रयोगशालाएं शुरू कर दी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार का ध्येय ‘निरोगी राजस्थान‘ बनाने का है, जिसके लिए अभियान शुरू किया गया था। 

इसे भी पढ़ें: सत्येंद्र जैन का दावा, दिल्ली में 50 प्रतिशत से अधिक कोरोना बिस्तर खाली

इस बीच, मार्च माह में कोरोना संक्रमण फैल गया, लेकिन अब इस अभियान को फिर से आगे बढ़ाया जाएगा। राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी ने कहा कि राज्य सरकार ने जिस तरह सभी वर्गों को साथ लेकर कोरोना महामारी का सामना किया है उसके लिए पूरे देश में मुख्यमंत्री गहलोत की सराहना की जा रही है। शासन सचिव (स्वास्थ्य शिक्षा)वैभव गलरिया ने बताया कि वर्तमान में प्रदेश में 38 सरकारी और 23 निजी प्रयोगशालाओं में कोविड-19 की जांच की जा रही है। राजस्थान ने एक दिन में 60,000 आरटी-पीसीआर परीक्षण करने की क्षमता हासिल कर ली है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


अनियंत्रित कार ने ली युवक की जान, इंदौर बीआरटीएस रेलिंग तोड़कर घुसी कार

  •  दिनेश शुक्ल
  •  नवंबर 28, 2020   19:06
  • Like
अनियंत्रित कार ने ली युवक की जान, इंदौर बीआरटीएस रेलिंग तोड़कर घुसी कार
Image Source: Google

बताया जाता है कि बिट्टू बीआरटीएस की खाली लेन देखकर उसी लेन में कार चलाने लगा और बाजू में चल रही कार से रेस लगाने लगा। अचानक कार असंतुलित होकर उसकी कार डिवाइडर से टकराई और रेलिंग तोड़ते हुए बाहर आ गई।

इंदौर। मध्य प्रदेश की व्यवसायिक नगरी इंदौर में एक अनियंत्रित कार ने एक युवक की जान ले ली। इंदौर शहर के एबी रोड़ स्थित बीआरटीएस कॉरिडोर में शुक्रवार रात हुए हादसे में युवक की मौत हो गई, जबकि उसके दो साथी घायल हो गए। मृत युवक बीआरटीएस लेन में ही कार दौड़ा रहा था। अनियंत्रित होकर कार अचानक डिवाइडर से टकराते हुए रेलिंग तोड़कर दूसरी लेन में आ गई। इंदौर के  संयोगितागंज थाना पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच कर दी है।

इसे भी पढ़ें: कार सवारों ने मारी ढाबा संचालक को गोली, मौके पर ही मौत

इंदौर के संयोगितागंज थाने के एएसआई प्रताप चौहान के मुताबिक हादसा शुक्रवार रात करीब 12.30 बजे हुआ। मृतक का नाम ईश्वर उर्फ बिट्टू निवासी राजवाड़ा है।  मृतक ईश्वर उर्फ बिट्टू अपने दोस्तों गोकुल राठौर व अश्विन के साथ महू नाका पर पार्टी करने के बाद गीता भवन की तरफ कार लेकर आ गया। कार बिट्टू चला रहा था। बताया जाता है कि बिट्टू बीआरटीएस की खाली लेन देखकर उसी लेन में कार चलाने लगा और बाजू में चल रही कार से रेस लगाने लगा। अचानक कार असंतुलित होकर उसकी कार डिवाइडर से टकराई और रेलिंग तोड़ते हुए बाहर आ गई। कार पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई और बिट्टू की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे में मृत युवक के साथी गोकुल व अश्विन को मामूली चोटें आई हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


हैदराबाद नगर निगम चुनाव को लेकर संबित पात्रा ने साधा AIMIM पर निशाना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   19:02
  • Like
हैदराबाद नगर निगम चुनाव को लेकर संबित पात्रा ने साधा AIMIM पर निशाना
Image Source: Google

भाजपा के संबित पात्रा ने दावा किया कि कांग्रेस को वोट देने का मतलब टीआरएस के लिए मतदान करना है जबकि टीआरए के लिए वोट का मतलब एआईएमआईएम के लिए मतदान है।

हैदराबाद। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रवक्ता संबित पात्रा ने शनिवार को कहा कि हैदराबाद के लोगों को एक दिसंबर को हो रहे नगर निगम के चुनाव में यह तय करना होगा कि वे विकासोन्मुखी भाजपा का महापौर चाहते हैं या विभाजनकारी राजनीत करने वाली एआईएमआईएम का महापौर। उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘हैदराबाद के लोगों को यह चुनना होगा कि किसका महापौर बनने जा रहा है? यह भाजपा का महापौर होगा या एमआईएम (आईएमआईएम) का ? भाजपा का विकासोन्मुखी महापौर या एमआईएम का सांप्रदायिक राजनीति, विभाजनकारी राजनीति वाला महापौर, क्योंकि यह पार्टी बहिष्कार की राजनीति करती है।’’ 

इसे भी पढ़ें: आया निकाय चुनाव बीजेपी-ओवैसी में सियासी तनाव, हैदराबाद में रोहिंग्या, शेरवानी और बिरयानी

उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस को वोट देने का मतलब टीआरएस के लिए मतदान करना है जबकि टीआरए के लिए वोट का मतलब एआईएमआईएम के लिए मतदान है। वृहद हैदराबाद नगर निगम (जीएचएमसी) के चुनाव के सिलसिले में अपनी पार्टी की ओर से यहां संवाददाता सम्मेलन में पात्रा ने कहा कि भाजपा वृहद हैदराबाद नगर निगम का चुनाव लड़ रही है जबकि ‘‘परिवार एवं मित्र ‘‘ (उनका इशारा टीआरएस और एआईएमआईएम की ओर था) एफएफएमसी प्राइवेट लिमिटेड यानी परिवार, मित्र प्राइवेट लिमिटेड के लिए चुनाव लड़ रहे हैं। टीआरएस और एआईएमआईएम के बीच कोई गठबंधन नहीं होने के टीआरएस ने नेताओं की टिप्पणी पर उन्होंने याद दिलाया कि टीआरएस ने 2019 में लोकसभा के चुनाव में 17 में से 16 सीट रखी थी और हैदराबाद की सीट एआईएमआई के लिए छोड़ी थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।