अगर मोदी सेना को पहले खुली छूट दे देते पुलवामा और उरी नहीं होता: मायावती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2019   14:41
अगर मोदी सेना को पहले खुली छूट दे देते पुलवामा और उरी नहीं होता: मायावती

भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने मंगलवार को तड़के नियंत्रण रेखा के दूसरी ओर पाकिस्तानी हिस्से में कई आतंकी शिविरों पर बमबारी की।

नयी दिल्ली। बसपा प्रमुख मायावती ने पाकिस्तान के भीतर आतंकी शिविरों पर भारतीय वायुसेना की कार्रवाई की तारीफ करते हुए मंगलवार को कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेना को पहले ही खुली छूट दे दिए होते तो पठानकोट, उरी और पुलवामा जैसी आतंकी घटनाएं नहीं होंती तथा हमारे इतने जवानों की शहादत नहीं होती। मायावती ने ट्वीट कर कहा, ‘जैश आतंकियों आदि के खिलाफ पीओके में घुसकर भारतीय वायुसेना के बहादुर जाँबाज़ों की साहसिक कार्रवाई को सलाम व सम्मान। काश हमारी सेना को फ्री हैण्ड भाजपा की सरकार पहले दे देती तो बेहतर होता।’

इसे भी पढ़ें: वायुसेना की कार्यवाई के बाद सिद्धू ने बदला राग, कहा- लोहा लोहे को काटता है

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने पुलवामा के जवानों की शहादत के बदले में कार्रवाई करने के लिये अब जो फ्री हैण्ड सेना को दिया है अगर यह फैसला मोदी सरकार द्वारा पहले ले लिया गया होता तो पठानकोट, ऊरी व पुलवामा जैसी अति-दुःखद व अति-चिन्तित करने वाली घटनायें नहीं होती और न ही इतने जवान शहीद होते। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, ‘अपनी वायुसेना और सशस्त्र बलों को सलाम करता हूं। बहुत बधाई।’

इसे भी पढ़ें: एयर डिफेंस सिस्‍टम अलर्ट पर, पाकिस्तान की किसी भी कार्रवाई का तुरंत जवाब देने के निर्देश

गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने मंगलवार को तड़के नियंत्रण रेखा के दूसरी ओर पाकिस्तानी हिस्से में कई आतंकी शिविरों पर बमबारी की। सरकार से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि यह कार्रवाई जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को आतंकी गुट जैश ए मोहम्मद द्वारा किए गए आत्मघाती हमले के ठीक 12 दिन बाद की गई है। पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...