लॉकडाउन सफल है तो कोरोना संक्रमण के मामले इतने ज्यादा क्यों बढ़ रहे हैं: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   20:31
लॉकडाउन सफल है तो कोरोना संक्रमण के मामले इतने ज्यादा क्यों बढ़ रहे हैं: कांग्रेस

लॉकडाउन को ‘विफल’ बताने के राहुल गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष गलत बयानबाजी करके और तथ्यों को गलत तरीके से पेश करके कोविड-19 महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं तथा उन्हें इस विषय पर दुनिया के आंकड़ों पर ध्यान देना चाहिए।

नयी दिल्ली।  कांग्रेस ने राहुल गांधी पर भाजपा की ओर से निशाना साधे जाने के बाद पलटवार करते हुए बुधवार को कहा कि अगर लॉकडाउन सफल है तो फिर सरकार को बताना चाहिए कि कोरोना वायरस संक्रमण के मामले इतने ज्यादा क्यों बढ़ रहे हैं। पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने यह भी कहा कि राहुल गांधी ने कोरोना संकट के दौरान अब तक बहुत ही सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाई है। उन्होंने कभी भी सरकार की आलोचना करने की कोशिश नहीं की है, बल्कि हमेशा सरकार को सकारात्मक सुझाव देने का प्रयास किया हैहै। उन्होंने सवाल किया, ‘‘अगर लॉकडाउन सफल है, तो लॉकडाउन के अंदर ही कोरोना के मामलों की संख्या इतनी ज्यादा क्यों बढ़ रही है?’’

माकन ने कहा कि सरकार को विपक्ष से सवाल करने के बजाय इस सवाल का जवाब देना चाहिए। गौरलब है कि लॉकडाउन को ‘विफल’ बताने के राहुल गांधी के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा ने बुधवार को कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष गलत बयानबाजी करके और तथ्यों को गलत तरीके से पेश करके कोविड-19 महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं तथा उन्हें इस विषय पर दुनिया के आंकड़ों पर ध्यान देना चाहिए। भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संवाददाताओं से कहा कि दुनिया के 15 ऐसे देश जहां कोरोना बड़ी बीमारी बन गया है उनकी कुल आबादी है 142 करोड़। इसमें अमेरिका, इंग्लैंड, फ्रांस, जर्मनी, इटली, कनाडा व अन्य देश हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।