दिल्ली में 3-4 दिनों में हो सकती है हल्की बारिश, बेहतर होगी वायु गुणवत्ता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2019   12:26
दिल्ली में 3-4 दिनों में हो सकती है हल्की बारिश, बेहतर होगी वायु गुणवत्ता

‘स्काईमेट वेदर’ के महेश पलावत ने बताया कि हल्की बारिश और हवा के अनुकूल दिशा में बहने के कारण दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार की संभावना है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में अगले तीन-चार दिन में कहीं-कहीं बारिश हो सकती है। इससे उमस में कमी और वायु गुणवत्ता के ‘‘संतोषजनक’’ श्रेणी में आने की संभावना है। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने बताया कि दिल्ली में अगले तीन से चार दिन में बारिश होने की संभावना है, जिससे उमस में कमी और वायु गुणवत्ता में सुधार आ सकता है। ‘स्काईमेट वेदर’ के महेश पलावत ने बताया कि हल्की बारिश और हवा के अनुकूल दिशा में बहने के कारण दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार की संभावना है।

इसे भी पढ़ें: सोनिया गांधी ने कई राज्यों में बाढ़ से उत्पन्न स्थिति पर जताई चिंता, केंद्र से मदद की मांग की

उन्होंने कहा कि अक्टूबर मध्य तक, पंजाब और हरियाणा में धुंध के दिल्ली-एनसीआर पहुंचने की कोई संभावना नहीं है, क्योंकि हवा विपरीत दिशा में चल रही है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने शहर का वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 55 दर्ज किया, जो ‘‘संतोषजनक’’ श्रेणी में आता है। शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच एक्यूआई ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बेहद खराब’ तथा 401 और 500 के बीच एक्यूआई को ‘गंभीर’ माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: देशभर में भारी बारिश के चलते 4 दिनों में 120 से ज्यादा लोगों की मौत, जनजीवन अस्त-व्यस्त

‘वायु गुणवत्ता, मौसम पूर्वानुमान अनुसंधान प्रणाली’ (सफर)का कहना है कि उपग्रह डेटा ने उत्तर भारत में कुछ छिटपुट ‘बायोमास बर्निंग’ (कार्बनिक पदार्थ के दहन) के संकेत दिए हैं, लेकिन इससे दिल्ली की वायु गुणवत्ता अगले दो दिनों में प्रभावित होने की संभावना नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।