यूपी चुनाव का असर, वायनाड छोड़ राहुल गांधी का अब अमेठी पर फोकस

यूपी चुनाव का असर, वायनाड छोड़ राहुल गांधी का अब अमेठी पर फोकस

कांग्रेस के स्थानीय जिला अध्यक्ष प्रदीप सिंघल ने बताया कि अमेठी वासियों को किसी भी तरह की मेडिकल समस्या ना होने पाए, इसके लिए राहुल गांधी क्षेत्र के हर घर को सैनिटाइज करवाएंगे। सिंघल ने दावा किया कि इसके लिए 10000 लीटर सैनिटाइजर जल्द ही अमेठी पहुंचेगा। फिलहाल सैनिटाइजेशन के लिए टीमों का गठन कर लिया गया है।

अमेठी (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को देखते हुए सभी राजनीतिक दल अपने-अपने रणनीति को जमीन तक पहुंचाने की कोशिश में जुट गए हैं। उधर, अमेठी से तीन बार सांसद रहे राहुल गांधी ने भी एक बार फिर से अब जिले का रुख कर लिया है। अरसे तक यहां से सांसद रहे राहुल गांधी कोरोना वायरस के मद्देनजर जिले के हर घर को सैनिटाइज करवाएंगे। कांग्रेस के स्थानीय जिला अध्यक्ष प्रदीप सिंघल ने बताया कि अमेठी वासियों को किसी भी तरह की मेडिकल समस्या ना होने पाए, इसके लिए राहुल गांधी क्षेत्र के हर घर को सैनिटाइज करवाएंगे। सिंघल ने दावा किया कि इसके लिए 10000 लीटर सैनिटाइजर जल्द ही अमेठी पहुंचेगा। फिलहाल सैनिटाइजेशन के लिए टीमों का गठन कर लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: ‘कोविड टूलकिट’ मामले पर बोले राहुल गांधी, कहा- सत्य डरता नहीं

सिंघल ने बताया कि राहुल इससे पहले 21 मई को पांच ऑक्सीजन सांद्रक और 20 ऑक्सीजन सिलेंडर भेज चुके हैं वहीं आज 15 सांद्रक भेजे हैं। गौरतलब है कि अमेठी से तीन बार सांसद रहे राहुल गांधी को वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की स्मृति ईरानी के हाथों पराजय का सामना करना पड़ा था। राहुल अमेठी के साथ-साथ केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़े थे जहां उन्होंने जीत दर्ज की थी। अमेठी में स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को लगभग 55000 वोटों से मात दी थी। चुनावी हार के बाद शायद ही अमेठी राहुल गांधी कभी गए हो। अमेठी को लेकर कोई सक्रियता दिखाई हो। राहुल गांधी लगातार वायनाड जाते रहे हैं। केरल में विधानसभा के चुनाव थे। वायनाड केरल में पड़ता है। ऐसे में वायनाड में अपनी सक्रियता को जारी रख राहुल गांधी वहां पार्टी को मजबूत करने की कोशिश में जुटे हुए थे।

इसे भी पढ़ें: टूलकिट पर तकरार जारी, कांग्रेस के दो नेताओं को नोटिस, छत्तीसगढ़ CM बोले- ट्विटर को धमकाने के लिए पुलिस को भेजा गया

अब केरल में विधानसभा के चुनाव खत्म हो गए है। वायनाड के जरिए राहुल की कांग्रेस को मजबूत करने की नीति काम नहीं आई। एलडीएफ इतिहास रचते हुए सरकार में वापस आने में कामयाब रही। यूडीएफ का प्रदर्शन इस बार भी खराब रहा। अब राहुल गांधी का ध्यान अमेठी की तरफ हो गया है। उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने है। कांग्रेस उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के सहारे अपनी जमीन को तलाशने में जुटी हुई है। खुद प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की कमान संभाल रही हैं। ऐसे में जाहिर सी बात है कि राहुल गांधी की सक्रियता बढ़नी थी। देखना होगा कि आगे आने वाले दिनों में राहुल किस तरह की रणनीति के तहत अमेठी और उसके आसपास के जिलों में अपनी सक्रियता को बढ़ाते हैं। आपको बता दें कि अमेठी की बगल वाली सीट रायबरेली से उनकी मां सोनिया गांधी सांसद हैं। रायबरेली और अमेठी की लोकसभा सीट गांधी-नेहरू परिवार की पारंपरिक सीट मानी जाती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।